आदिवासियों की आवश्यकता के अनुरूप अब होगा जंगलों का विकास: भूपेश बघेल


RO 12784/15

मुख्यमंत्री ने की वन विभाग के काम-काज की समीक्षा

गौठानों में लघु वनोपजों के 50 लाख पौधों का होगा रोपण

स्व-सहायता समूह तैयार करेंगे बांस के 4 लाख ट्री गार्ड: लगभग 16 करोड़ रूपए की होगी आमदनी

वन प्रबंधन समितियों की महिलाओं ने 4 करोड़ की लागत से तैयार किए 50 लाख मास्क

वन अधिकार पट्टा प्राप्त हितग्राहियों को वृक्षारोपण से जोड़ने के निर्देश

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि आदिवासियों की आवश्यकताओं के अनुरूप प्रदेश के जंगलों का विकास किया जाएगा। जंगलों में ऐसे पेड़ लगाए जाएंगे जो पर्यावरण के अनुकूल होंगे साथ ही आदिवासियों के पोषण और जीविकोपार्जन में सहायक होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि पौध रोपण के दौरान इस बात का विशेष रूप से ध्यान रखा जाए। वन क्षेत्रों के विकास में इस कार्य को प्राथमिकता से शामिल किया जाए जिससे वनवासियों के जीवन में सुधार और उनके जीवकोपार्जन में मदद मिले।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने यह बातें आज अपने निवास कार्यालय में आयोजित वन विभाग के कामकाज की समीक्षा बैठक में कही। मुख्यमंत्री ने वनों के संरक्षण और संवर्धन के लिए वृक्षारोपण कार्यक्रम के तहत रोपित पौधों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। प्रदेश में वन विभाग द्वारा इस वर्ष विभिन्न मदों के अंतर्गत पांच करोड़ एक लाख पौधे के रोपण का लक्ष्य रखा गया है। बैठक में वनमंत्री मोहम्मद अकबर, मुख्य सचिव आर.पी. मण्डल, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, वन विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार पिंगुआ, प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी, वन विभाग के सचिव जयसिंह म्हस्के तथा मुख्यमंत्री सचिवालय में उप सचिव सौम्या चौरसिया और वरिष्ठ विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बैठक में कहा कि जिन हितग्राहियों को वन अधिकार पट्टे दिए जा रहे हैं उन्हें वृक्षारोपण के साथ जोड़ा जाना चाहिए और इन हितग्राहियों की जमीन पर मनरेगा और वन विभाग की योजनाओं के तहत अभियान चलाकर महुआ, हर्रा, बहेरा, आंवला, आम, इमली, चिरौंजी जैसे अलग-अलग प्रजातियों के फलदार वृक्ष लगाए जाएं, इससे भी जंगल बचेगा और हितग्राही को आमदनी भी होगी।

बघेल ने कहा कि इन हितग्राहियों को तत्काल आय का साधन उपलब्ध कराने के लिए उनकी जमीन पर तीखुर, हल्दी और जिमीकांदा भी लगाया जाना चाहिए, जिससे उन्हें इन उत्पादों के जरिए जल्द आय का साधन मिल सके।बघेल ने कहा कि आज आदिवासी जंगलों से विमुख हो रहे हैं क्योंकि जंगल उनकी आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं कर पा रहे हैं। हमें जंगलों को वनवासियों के लिए रोजगार और आय का जरिया बनाना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि फलदार वृक्ष लगाने के साथ-साथ लघु वनोपजों के संग्रहण और उनकी मार्केटिंग तथा वैल्यू एडिशन का भी एक सिस्टम तैयार किया जाना चाहिए, जिससे अधिक से अधिक लोगों को रोजगार से जोड़ा जा सके। जंगलों, सड़कों के किनारे और राम वन गमन पथ के किनारे आम, बरगद, पीपल, नीम जैसी प्रजातियों के पौधे भी लगाए जाएं।

मुख्यमंत्री बघेल ने बैठक में निर्देश दिए कि वृक्षारोपण कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन के लिए स्थानीय लोगों और वनवासियों को अधिकाधिक जोड़ा जाए। राज्य में चालू वर्ष में रायपुर से जगदलपुर तक 300 किलो मीटर के राष्ट्रीय राजमार्ग में दोनों ओर वृक्षारोपण किया जाएगा। साथ ही प्रदेश में 1300 किलो मीटर लम्बाई के राम वन गमन पथ के 75 विभिन्न स्थलों में आम, बरगद, पीपल, नीम तथा आंवला आदि फलदार प्रजाति के पौधों का रोपण किया जाएगा। श्री बघेल ने कहा कि प्रदेश में बनाए जा रहे गौठानों में अभियान चलाकर जुलाई माह में लघु वनोपजों के 50 लाख पौधों का रोपण किया जाए। उन्होंने बैठक में वृक्षारोपण के तहत रोपित पौधों की सुरक्षा के लिए प्रदेश में स्व-सहायता समूहों द्वारा बांस ट्री गार्ड के निर्माण की प्रशंसा की और इसे बढ़ावा देने के लिए आवश्यक निर्देश दिए। वर्तमान में समूहों द्वारा एक लाख बांस ट्री गार्ड का निर्माण हो चुका हैै तथा तीन लाख और बांस ट्री गार्ड का निर्माण जारी है। इससे समूहों को 16 करोड़ रूपए की आमदनी होगी।

बघेल ने आवर्ती चराई योजना के तहत वन क्षेत्रों में पशुओं के लिए चारागाह घेरने, शेड निर्माण और वहां वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन के साथ-साथ देशी मुर्गी पालन तथा बतख और सूकर पालन जैसे गतिविधियों को बढ़ावा देने के निर्देश दिए। इसके तहत वर्तमान में स्वीकृत 590 कार्याें में से 324 कार्य प्रगति पर है। नरवा विकास कार्यक्रम के तहत वन विभाग द्वारा चालू वर्ष में 210 करोड़ रूपए की राशि के 302 नालों में जल संवर्धन संबंधित कार्य कराए जा रहे हैं। इसके अलावा वनांचल में 137 बड़े-बड़े तालाबों के निर्माण के लिए प्रस्ताव स्वीकृति की कार्यवाही प्रगति पर है। बैठक में बताया गया कि कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए वन प्रबंधन समितियों और महिला स्व सहायता समूहों की लगभग एक हजार महिलाओं द्वारा 50 लाख मास्क का निर्माण किया जा चुका है। इससे इन महिलाओं को डेढ करोड़ रूपए की आमदनी होगी।

वनमंत्री मोहम्मद अकबर ने बैठक में बताया कि इस वर्ष तेंदूपत्ता तोड़ाई के पारिश्रमिक का भुगतान सीधे हितग्राहियों के खाते में करने का निर्णय लिया गया है। प्रदेश में चालू वर्ष के दौरान तेंदूपत्ता संग्रहण से 12 लाख 53 हजार परिवारों को लगभग 649 करोड़ रूपए का पारिश्रमिक मिलेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी जिलों में होने वाली वनोपजों की जानकारी से संबंधित डाटा एकत्र करने के लिए सर्वे कराया जा रहा है अगले तीन से 4 वर्षों में लघु वनोपजों की ऑनलाइन खरीदी की व्यवस्था तैयार करने का प्रयास किया जा रहा है। बैठक में बताया गया कि कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान वन विभाग द्वारा अब तक 80 करोड़ रूपए के विकास कार्याें के माध्यम से जरूरतमंदों को तत्परता पूर्वक रोजगार उपलब्ध कराया गया है। इसी तरह देश में सर्वाधिक 26 करोड़ रूपए की राशि के लघु वनोपजों का संग्रहण कर बड़ी तादाद में लाभ दिलाया गया है। राज्य में अब तक लगभग 165 करोड़ रूपए की राशि के 4 लाख 11 हजार 222 मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्र्रहण हो चुका है। इसके माध्यम से लोगों को रोजगार के साथ-साथ आय का लाभ मिल रहा है। इसी तरह वनों में अग्नि दुर्घटनाओं को रोकने के लिए वन विभाग अंतर्गत कुल 3 हजार 506 बीटों में अग्नि रक्षक लगाकर रोजगार उपलब्ध कराया गया।

इसके अलावा 241 नर्सरियों में पौधा तैयार करने तथा संयुक्त वन प्रबंधक के अंतर्गत वर्मी कम्पोस्ट, मशरूम उत्पादन, मछली पालन, तालाब गहरीकरण, बांस ट्री गार्ड निर्माण, लाख चूड़ी उत्पादन और भू-जल संरक्षण कार्य तथा नरवा विकास कार्याें के माध्यम से काफी तादाद में लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। बैठक में बताया गया कि बस्तर में इमली की प्रोसेसिंग के माध्यम से लगभग 12 हजार महिलाएं जुड़ी हैं इन्हें हर माह ढाई हजार से 3 हजार रूपए की आय हो रही है। चिरौंजी, रंगीली लाख, कुसमी लाख, शहद, महुआ बीज संग्रहण और प्रोसेसिंग के माध्यम से 8580 महिलाओं को काम मिला है। जशपुर में महुआ से सेनेटाइजर बनाया जा रहा है।

Share The News




CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


IMG 20240710 182208 (700 x 674 pixel)

छत्तीसगढ़ रोजगार एप्प: युवाओं के लिए एक महत्वपूर्ण पहल

By Reporter 5 / July 10, 2024 / 0 Comments
  रायपुर, 10 जुलाई 2024: छत्तीसगढ़ के युवाओं के लिए रोजगार एप्प एक महत्वपूर्ण पहल साबित हो रही है। मुख्यमंत्री विष्णु देव साय और उपमुख्यमंत्री विजय शर्मा की इस पहल के अंतर्गत प्रदेश के युवा घर बैठे ही रोजगार पंजीयन...
griyabnd

जंगल में बिखरे हीरा भंडार की सुरक्षा के लिए चौकीदार नहीं

By Reporter 1 / July 7, 2024 / 0 Comments
देश के सबसे बड़े हीरा खदान में सुरक्षा के लिए चौकीदार भी तैनात नहीं है। गरियाबंद के जंगलों के बीच बहूमुल्य हीरा एलेक्जेंडर बिखरे पड़े हैं। नतीजा यह है कि तस्करों ने हीरा खदान में बुरी तरह से अवैध उत्खनन...
IMG 20240707 WA0011

जर्जर स्कूल भवनों को लेकर सरकार सचेत, तत्काल मरम्मत के कलेक्टर्स को दिए निर्देश…

By User 6 / July 7, 2024 / 0 Comments
बारिश के महीने में जर्जर स्कूल भवनों से संभावित खतरे को भांपते हुए सरकार ने ऐसे भवनों में कक्षाएं लगाने से मना कर दिया है। शिक्षा सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी ने सभी कलेक्टर्स को पात्र लिखकर अवगत किया है...
nidar

शांति से साइकिल पर बैठ सत्ता सौंप चल दिए इस देश के प्रधानमन्त्री

By Reporter 1 / July 8, 2024 / 0 Comments
भारत समेत दुनिया के ज्यादातर देशों में जब सत्ता का हस्तांतरण होता है तो बहुत ज्यादा शोर-शराबा या हो-हल्ला देखने को मिलता है। अमेरिका में तो 2020 राष्ट्रपति चुनाव नतीजों के बाद सत्ता ट्रांसफर के दौरान दंगा तक हो गया।...
IMG 20240708 WA0019

वेदांता चेयरमैन अनिल अग्रवाल ने ओडिशा मुख्यमंत्री से की मुलाकात

By Reporter 5 / July 8, 2024 / 0 Comments
भुवनेश्वर। इस मुलाकात में दोनों ने राज्य की औद्योगिक और सामाजिक-आर्थिक वृद्धि को तीव्र करने के साझे विज़न पर चर्चा की। अनिल अग्रवाल ने ओडिशा के विकास के प्रति वेदांता की अडिग प्रतिबद्धता को दोहराया और सहयोग के नए क्षेत्रों...
20240705 135153

देखें लाइव: मुख्यमंत्री विष्णु देव साय भगवान जगन्नाथ जी के दरबार में

By Reporter 5 / July 7, 2024 / 0 Comments
मुख्यमंत्री  विष्णु देव साय पंहुचे भगवान जगन्नाथ जी के दरबार गायत्री नगर मंदिर में और उन्होंने पूजा अर्चना की और प्रदेशवासियों और प्रदेश की खुशहाली के लिए प्रार्थना की। और सभी प्रदेशवासियों को भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा की बधाई और...
IMG 20240709 211116 (700 x 700 pixel)

छत्तीसगढ़ की विकास के लिए आज, कैबिनेट बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय

By Reporter 5 / July 9, 2024 / 0 Comments
  रायपुर। मुख्यमंत्री विष्णु देव साय की अध्यक्षता में आज मंत्रालय महानदी भवन में मंत्रिपरिषद की बैठक आयोजित हुई। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए।   भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने साय सरकार का अहम फैसला सीएसआईडीसी के सारे रेट...
IMG 20240707 WA0005

 Ekhabri खास खबर: छत्तीसगढ़ में आदिवासी अंचलों में प्रारंभिक शिक्षा जल्द स्थानीय भाषा में

By Reporter 5 / July 7, 2024 / 0 Comments
  नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत आदिवासी समुदायों में शिक्षा की पहुंच बढ़ाने महत्वपूर्ण कदम   नई दिल्ली, 7 जुलाई 2024 – छत्तीसगढ़ के आदिवासी अंचलों के बच्चे जल्द ही स्थानीय बोली व भाषा में पढ़ाई कर सकेंगे। नई...
IMG 20240708 222556 (700 x 700 pixel)

मुख्यमंत्री साय की नई पहल: लोगों को मिली एक और नई सुविधा

By Reporter 5 / July 8, 2024 / 0 Comments
रायपुर, 08 जुलाई 2024/ मुख्यमंत्री विष्णु देव साय की पहल पर लोगों को एक और नई सुविधा मिलने जा रही है। राज्य के सभी पंजीयन कार्यालयों में लोगों को अपने भूमि-मकान आदि के एनजीडीआरएस प्रणाली में पंजीयन के समय ऑनलाईन...
Tripura hiv

त्रिपुरा के सैकड़ों छात्र हुए HIV पॉजिटिव

By Reporter 1 / July 11, 2024 / 0 Comments
त्रिपुरा में 828 स्टूडेंट्स में HIV का पता चलने के बाद हड़कंप मच गया है। इनमें से अब तक 47 छात्रों की एड्स से मौत भी हो चुकी है। हैरान करने वाली बात है कि एचआईवी पीड़ित कई स्टूडेंट्स देश...

Leave a Comment