आज भी विकास से कोसों दूर हैं ओडग़ी के कई गांव

मुंडा में नहीं है आंगनबाड़ी 9 किलोमीटर दूर लुल्ह जाना पड़ता है गर्भवती महिलाओ को
सूरजपुर। सूरजपुर जिले के ओडग़ी विकासखंड का एक गांव जो पहाड़ पर बसा है विकास के दौर में आज भी पिछड़ा है। मूलभूत सुविधाओं की भारी कमी है, गाँव का नाम है भुंडा… एक ऐसा गांव है जहां आज भी आंगनबाड़ी केंद्र नहीं है और बच्चे, गर्भवती व शिशुमती माताएं शासन की योजनाओं से वंचित हैं। यहां से करीब नौ किमी दूर लूल्ह में केंद्र है जहां बच्चों व माताओं के नाम दर्ज तो किये जाते हैं लेकिन दूर व जंगली रास्ता होने के कारण वे यहां तक नहीं पहुंच पाते हैं। भुंडा बहुत पुराना गांव है और आज तक यहां आंगनबाड़ी केंद्र न होना आश्चर्य की बात है तथा यह प्रशासनिक उदासीनता को दर्शाता है। भारत की संभावित सबसे बड़ी पंचायत खोहिर का आश्रित ग्राम भुंडा, मूलभूत सुविधाओं से वंचित तो है ही, योजना के आरंभ होने के कई दशक बाद भी आंगनबाड़ी केंद्र के न होने का खामियाजा भुगत रहा है। आंगनबाड़ी केंद्र शासन की महत्वपूर्ण योजना है जिसके माध्यम से कुपोषण दूर करने व अन्य महत्वपूर्ण कार्य किये जाते हैं। छोटे बच्चे, गर्भवती व शिशुवती माताओं को शासन की योजनाओं का लाभ मिल सके, मोहल्ले-मोहल्ले में केंद्र खोले जाते हैं। जनसंख्या व मांग के आधार पर शासन तुंरत केंद्र खोलने अनुमति देती है, भवन का निर्माण कराया जाता है और कार्यकर्ता, सहायिका की भर्ती की जाती है। अब भुंडा की बात करें तो शासन की प्राथमिकता से केंद्र खोलने की मंशा के बावजूद करीब 150 की जनसंख्या वाला यह गांव आज भी आंगनबाड़ी केंद्र खुलने का इंतजार कर रहा है। जानकारी देते हुए यहां के रामकरण, लालसाय, बृजलाल विनोद, बसंतलाल, संगीता, मानकुंवर व अन्य ने बताया कि उनके गांव में बिना भवन के प्राथमिक व मिडिल स्कूल तो है लेकिन आंगनबाड़ी केंद्र नहीं है, शासन प्रशासन द्वारा अब तक यहां आंगनबाड़ी केंद्र खोलने पहल भी नहीं की गई है। उन्होंने बताया कि यहां से करीब नौ किमी दूर लूल्ह में आंगनबाड़ी केंद्र है जहां यहां के बच्चों और गर्भवती तथा शिशुमती माताओं के नाम दर्ज किए जाने की जानकारी दी जाती है। लूल्ह यहां से काफी दूर है और जंगल व जंगली जानवरों के डर के कारण वहां जाना आसान नही ंहोता इसलिए कोई वहां नहीं जाता है और शासन की योजनाओं से वंचित हो जाता है। उन्होंने बताया कि कई तरह के पोषक खाद्य पदार्थ जैसे गर्म भोजन, रेडी टू ईट व अन्य सामग्री केंद्रों से मिलती है, लेकिन गांव में केंद्र न होने व लूल्ह न जाने पाने के कारण व इनसे वंचित हो जाते हैं। बरहाल पहाड़ पर बसे व अन्य गांवों से कई-कई किलोमीटर दूर होने के बावजूद आंगनबाड़ी केंद्र का न होना प्रशासनिक उदासीनता को प्रदर्शित करता है,क्योंकि प्रशासनिक स्तर पर जब भी गांव की बात होती होगी,वहां संचालित योजनाओं का जिक्र भी होता होगा, जिनमें आंगनबाड़ी केंद्र का न होना भी पता चलता होगा। ये बातें भी सामने आती होंगी कि केंद्र के अभाव में यहां के बच्चे व माताएं योजनाओं से वंचित हैं (अगर जानकारी सही दी जाती होगी तो), फिर यहां केंद्र खोलने प्रयास क्यों नहीं हुए।दूसरी तरफ ग्रामीणों ने शासन प्रशासन से भुंडा में आंगनबाड़ी केंद्र खोलने की मांग की है ताकि उन्हें शासन की योजनाओं से वंचित न होना पड़े।
आंगनबाड़ी और स्वास्थ्य व गांव के विकास में इसकी भूमिका
आंगनबाड़ी केंद्र एक तरह का प्ले स्कूल होता है, जहां गांव के छोटे बच्चे जाकर खेलते हैं और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता द्वारा उन्हें प्राथमिक शिक्षा भी दी जाती है। लेकिन, इसके अलावा आंगनवाड़ी केंद्रों की ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य, पोषण और जागरूकता बढ़ाने में अहम भूमिका होती है।आंगनवाड़ी केंद्र से गांव के विकास को बल मिलता है, इससे ग्रामवासियों को कई सुविधाएं मिलती हैं। गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य, टीकाकरण और रेगुलर चेकअप का ध्यान रखना, गांव के सभी छोटे बच्चों का टीकाकरण सुनिश्चित करना, बच्चों और महिलाओं को पौष्टिक आहार मुहैया करवाना ताकि वे कुपोषण के शिकार न हों, 3 से 6 साल के बच्चों को प्री-स्कूल एक्टिविटीज करवाना ताकि उनका बेहतर मानसिक विकास हो सके, स्वास्थ्य और पोषण को लेकर गांव में जागरूकता फैलाना, स्थानीय स्तर पर सरकारी योजनाओं का लाभ लोगों तक पहुंचाना, गांव से बच्चों और महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधी डाटा इक_ा करना, कुपोषण अथवा बीमारी के गंभीर मामलों को अस्पताल भेजना व अन्य कार्य शामिल हैं।
बैजनपाठ के पण्डो पारा में भी यही हाल
पहाड़ पर बसे बैजनपाठ में पंडोपारा कई स्थिति भी भुंडा जैसी ही है और यहां के बच्चों व शिशुवती माताओं को करीब 2 किलोमीटर दूर पारा मोहल्ला जाना पड़ता है। गौरतलब है कि पूर्व कलेक्टर ने कोरोना काल में बैजनपाठ में चौपाल लगाकर लोगों की समस्याएं सुनी थी जहां वर्तमान सरपंच फूलसाय पण्डो ने यह समस्या लिखित में रखा था कि पिछले वर्ष बैजनपाठ में संचालित एकल आंगनबाड़ी में कुल 68 दर्ज संख्या है। पारा मोहल्ला कि दूरी खासकर पण्डो पारा के बच्चे जिनकी संख्या लगभग 45 है, वहां शिशुवती व गर्भवती लगभग 1-2 किलोमीटर दूर जाते हैं। मांग के बाद पूर्व कलेक्टर रणबीर शर्मा ने कहा था कि तत्काल नया आंगनबाड़ी केंद्र पण्डोपारा में खोला जाएगा लेकिन यह आज तक नहीं खुला जबकि यहां पण्डो विशेष पिछड़ी जनजाति, राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र निवास करते हैं।

Share The News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 





सफलता की कहानी: पति और सुसराल ने किया सपोर्ट, मिली 63वीं रैंक,  बेटी और बहु में परिवार नहीं करता भेदभाव

By Reporter 5 / September 18, 2021 / 0 Comments
रायपुर, पूनम ऋतु सेन। छत्तीसगढ़ को एक पिछड़े राज्य का दर्जा मिला हुआ है जहाँ बहुत से सामाजिक बंधन लगे हुये हैं। इसी बंधन की बात को शशि और उनका परिवार झुठला रहा है। छतीसगढ़ लोक सेवा आयोग 2018 के...

Ekhabri exclusive: संघर्षों भरी है PSC में चयनित ‘फकीर पटेल’ की कहानी, पार्ट टाइम जॉब के पैसों से किया तैयारी, अब बनेंगे मुख्य कार्यपालन अधिकारी

By Reporter 5 / September 18, 2021 / 0 Comments
24वीं रैंक हासिल कर अपना सपना पूरा कियासारंगढ़ के रहने वाले 'फकीर चंद पटेल' की कहानी PSC की तैयारी में लगे छात्रों के लिए प्रेरित करने वाली कहानी है।फकीर अपनी कमाई के चंद पैसों के साथ अधिकारी बनने का सपना...

रायपुर की डॉक्टर पहुंची केबीसी की हॉट सीट पर : गुरुवार को देंगी महानायक के सवालों के जवाब

By Rakesh Soni / September 15, 2021 / 0 Comments
रायपुर/धमतरी। सोनी चैनल पर प्रसारित कौन बनेगा करोड़पति के 16 सितंबर के प्रसारण में धमतरी की बेटी डा. मोनिका गुरुपंचायन नजर आएंगी। वे हाट सीट पर बैठकर अमिताभ बच्चन के प्रश्नों का उत्तर देंगी। धमतरी निवासी डॉ. मोनिका उर्फ डाली...

पितृपक्ष आज से प्रारंभ, पितरों का किया जाएगा तर्पण, तिथि अनुसार करें श्राद्ध

By Reporter 5 / September 20, 2021 / 0 Comments
रायपुर/ उज्जैन। (अशोकमहावर),आज से पितृपक्ष शुरू हो रहा है। छह अक्तूबर तक पितरों का तर्पण किया जाएगा। धार्मिक, मांगलिक कार्य नहीं होंगे। बाजारों में खरीदारी पर भी असर पड़ेगा। पितृपक्ष संपन्न होने के बाद नवरात्र पर्व के साथ बाजार में...

‘इंजीनियर्स डे’ पर जानें आपके कौन-कौन से फैवरेट स्टार्स इंजीनियर्स हैं, जानिए इस पोस्ट में

By Reporter 5 / September 15, 2021 / 0 Comments
1. कार्तिक आर्यन चॉकलेटी बॉय की इमेज वाले हॉट शॉट हीरो कार्तिक आर्यन फिल्मों में आने के पहले अपनी इंजिनयरिंग की पढ़ाई कर रहे थे। उन्होंने नयी मुंबई के डी वाय पाटिल इंजीनियरिंग कॉलेज से बायोटेक्नोलॉजी की पढ़ाई की है।...

ऑयल इंडिया लिमिटेड में निकली बंपर भर्ती, मासिक वेतन 90,000 तक, 10वीं पास भी करें आवेदन

By Rakesh Soni / September 19, 2021 / 0 Comments
नई दिल्ली, ऑयल इंडिया लिमिटेड ने ग्रेड 3 के कुल 535 रिक्त पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किये हैं। इसमें फिटर, मेकेनिक डीजल, इंस्ट्रूमेंट, इलेक्ट्रिशियन, मोटर व्हीकल ट्रेड आदि के पद शामिल हैं। सभी ट्रेड में ग्रेड 3...

पंजाब में सस्पेंस खत्‍म, सुखजिंदर रंधावा नए मुख्यमंत्री, और दो डिप्टी सीएम

By Reporter 5 / September 19, 2021 / 0 Comments
कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के इस्‍तीफे बाद पंजाब में चल रहा संकट रविवार को समाप्‍त हो गया। अंबिका सोनी के इन्‍कार के बाद हाईकमान ने विधायक दल की बैठक को रद्द कर अपने हाथ में मुख्यमंत्री बनाने की कमान ले ली...

‘बोन मेरो ट्रांसप्लांट’ विषय पर बालको में उच्चस्तरीय सम्मेलन का हुआ आयोजन

By Reporter 5 / September 19, 2021 / 0 Comments
बालको मेडिकल सेंटर (बीएमसी) ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, रायपुर ब्रांच और इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स, रायपुर चैप्टर के सहयोग से 18 सितंबर 2021 को रायपुर में बोन मैरो ट्रांसप्लांट (बीएमटी) पर एक सम्मेलन का आयोजन किया। इस सम्मेलन का विषय...

सुविचार: गर्त में पहुँच गए हों तब भी उम्मीद से उबारिये

By Reporter 5 / September 17, 2021 / 0 Comments
आज के इस भाग दौड़ भरे माहौल में हर कोई किसी न किसी तनाव व चिंता से ग्रस्त है।ऐसे ही तनाव भरे विचारों के साथ कोई जीवन जीने की कोशिश भी करे तब भी वह ठीक तरह से अपनी ज़िंदगी...

मंत्री सिंहदेव दिल्ली रवाना, छग में सियायी सरगर्मी तेज, यह कहा टीएस ने…

By Rakesh Soni / September 20, 2021 / 0 Comments
रायपुर। पंजाब में कांग्रेस द्वारा कैप्टन अमरिंदर सिंह की जगह चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री बनाए जाने से राजस्थान और छत्तीसगढ़ की राजनीति पर भी इसका असर पड़ता नजर आ रहा है. पंजाब के बाद अब इन दोनों राज्यों में...