हॉट सीट पर बैठ कमाए साढे बारह लाख,अमिताभ ने दिया नया नाम जलपुरुष

  • राजधानी के सोनू को केबीसी ने बनाया लखपति

रायपुर। पिछले 6 साल से लगातार कोशिश करने के बाद आखिरकार सोनू गुप्ता की किस्मत ने साथ दिया और वह बैठ पाए सदी के महानायाक अमिताभ बच्चन के सामने हॉट सीट पर। जी हां राजधानी के सोनू न सिर्फ केबीसी में अमिताभ बच्चन के सामने बैठे बल्कि साढ़े बारह लाख जीत कर भी लाए। अगर वह क्विट नहीं करते तो वह 25 लाख रूपये जीत कर आते। सही जवाब देने के बाद कॉन्फिडेंट न होने के कारण सोनू ने गेम छोड़ दिया।

केबीसी के कठिन से कठिन सवालों का जवाब देने वाले सोनू मात्र 10 कक्षा तक की पढ़ाई करे हैं। उन्होने साबित कर दिया कि स्कूली पढ़ाई पूरी नहीं कर पाने के बाद भी अगर इच्छाशक्ति हो तो इंसान ज्ञान का भंडार खुद ही अपने पास भर सकता है। केबीसी खेलने के दौरान अमिताभ बच्चन ने सोनू को जल पुरूष का नाम भी दिया।

सोनू ने Ekhabri.com से चर्चा के दौरान अमिताभ बच्चन के साथ बिताए समय को बखूबी बयां किया। राजधानी में रहने वाले सोनू एक्वागार्ड टेक्नीशियन हैं। यही कारण है कि शो के दौरान अमिताभ बच्चन ने उनका नया नाम करण कर दिया और उन्हें जलपुरूष का नाम दिया। सोनू को केबीसी में जाने का शुरु से एक जुनून सा था। हर साल की तरह इस साल भी उन्होंने प्रयास किया और सफलता हाथ लगी। कम पढ़े होने के बाद भी सोनू में केबीसी में पहुँच के मिसाल पेश की है। सोनू ने पारिवारिक कारण को लेकर अपनी पढ़ाई आगे पूरी नहीं कर पाई। वह बोलते हैं कि स्कूली पढ़ाई भले ही नहीं पूरी कर पाए लेकिन सामान्य ज्ञान की पढ़ाई कभी भी नहीं रोके, ज्ञानवधर्क पुस्तकें और पेपर पढ़ कर वह हमेशा अपने नॉलेज को बढ़ाने की कोशिश करते रहे।

Read Also  सरकार का बड़ा निर्णय: अन्य राज्यों से वापस आये छत्तीसगढ़ के प्रवासी व्यक्तियों को प्रति सदस्य मिलेगा 5 किलो निःशुल्क खाद्यान्न

सीजन 12 के लिए फास्टेस फिंगर फस्ट खेलने के पहले भी सोनू को कई तरह के सवालों का जवाब आॅनलाइन देना पड़ा। वह बताते हैं कि केबीसी में शामिल होने के लिए पहले रजिस्ट्रेशन कराना होता है और फिर केबीसी की टीम द्वारा दो राउंड में सवाल किए जाते हैं इसका सही जवाब बताने के बाद ही फास्टेस फिंगर फर्स्ट में शामिल होने का मौका मिलता है।


सोनू कि अमिताभ बच्चन से मिलने की तमन्ना पूरी हुई अब तक उन्हें बस टीवी में देखा था लेकिन स्क्रीन से ज्यादा अच्छे अमिताभ जी सामने नजर आते हैं। शो के दौरान लाइट्स और महानायक के सामने बैठने से काफी घबराहट भी महसूस होती है, लेकिन इस बात को समझते हुए अमिताभ बच्चन हमारा मनोबल बढ़ाने के लिए हर कोशिश करते हैं। सोनू ने अपनी इस सफलता के लिए अपनी पत्नी को भी सहभागी मानते हैं। सालों से मेहनत करने के बाद जब सफलता नहीं मिलती थी, तो उन्होने कई बार सोचा कि अब शायद केबीसी खेलना किस्मत में नहीं है। उस समय पत्नी खुब समझाती थी। हमेशा कोशिश करने के लिए बलती थी, शायद यही कारणहै कि इस साल भी कोशिश की और किस्मत ने साथ दिया।

Share The News

Get latest news on Whatsapp or Telegram.

   

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of