बिजनेस हब में लौटने लगी रौनक, मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट में 3000 वर्करों के साथ काम शुरू

देश में घातक कोरोना वायरस लगातार अपना कहर बरपा रहा है। इसी बीच कोरोना वायरस से जूझ रहे उत्तर प्रदेश के बिजनेस हब नोएडा में धीरे-धीरे जिंदगी पटरी पर आने लगी है। नोएडा के सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स प्लांट में काम शुरू हो गया है। शुक्रवार को 3000 मजदूर बसों के जरिए प्लांट में 3000 वर्कर पहुंचे हैं। नोएडा के सेक्टर 81 स्थित सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के प्लांट में काम शुरू हो गया। शुक्रवार को 3000 मजदूरों के साथ कंपनी ने कामकाज शुरू कर दिया। इन सभी कर्मचारियों को बसों के जरिए फैक्ट्री तक लाया गया था।

सरकार ने लॉकडाउन-3 में सीमित कर्मचारियों के साथ फैक्ट्री के संचालन को मंजूरी दी है। 35 एकड़ में फैली इस फैक्ट्री का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने किया था। यह दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट है।

नोएडा में दुकानदार, कारोबारी और निजी दफ्तर वालों ने जिला प्रशासन के आदेशों के बाद जरूरी एहतियात के साथ अपने प्रतिष्ठान खोल दिए हैं। इसमें ये लोग स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी सभी जरूरी गाइडलाइंस का पालन कर रहे हैं। ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने गुरुवार को 195 कंपनियों और 51 बिल्डरों को काम की अनुमति दी। यहां अब तक कुल 417 कंपनियों और 92 बिल्डरों को काम की अनुमति मिल चुकी है। डेडिकेटिड फ्रेट कॉरिडोर और ओप्पो मोबाइल कंपनी को भी काम की अनुमति दी गई है। गुरुवार को काम के लिए 668 कंपनियों व 55 बिल्डरों ने काम के लिए आवेदन किया था। बिल्डरों के चार आवेदन रिजेक्ट हो गए।

Read Also  ईरान ने एक बड़ी परियोजना से भारत को किया बाहर

बता दें कि गौतमबुद्धनगर में गुरुवार को भी 10 कोरोना मरीज मिले। इनमें से 5 अस्पताल के कर्मचारी हैं। जिले में कुल मरीजों का आंकड़ा अब 200 पार कर चुका है। 109 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर लौट चुके हैं। इससे पहले 3 डॉक्टर समेत 19 मेडिकल स्टाफ कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं।

Share The News

Get latest news on Whatsapp or Telegram.

   

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of