उगते सूर्य को दिया अर्ध्य, पूरी हुई छठ पूजा

रायपुर। सूर्योदय के साथ ही उगते सूर्य को अर्ध्य देकर आज व्रत पूरा किया गया। घाटों में प्रशानस की पूरी व्यवस्था होने के कारण लोगों को किसी भी तरह की परेशानियों का समाना नहीं करना पड़ा।

तालाब में सूर्य देवता की पूजा कर सुहागिनों ने अपने सुहाग की मंगल कामना, संतान का सुख और घर में सुख संपन्नता की कामना की। इस दिन ऊषा अध्य का खास महत्व होता है।
व्रत करने वालों ने सूर्योदय से पहले बांस की टोकरी और सूपा में ठेकुआ, चावल के लड्डू और फलों को सजा कर पूजा की गई।

पूजा करने आईं सविता यादव ने बताया कि लोटे में जल और दूध भर कर इसी से सूर्यदेवता को ऊषा अर्ध्य दिया जाता है इसके साथ ही सूपा की समाग्री के साथ भक्त छठी माता की पूजा करते हैं। सुहागन महिलाएं अपने सुहाग की सलामती के लिए इस दिन सुगाह लेती हैं मान्यता के अनुसार सिंदूर को नाक से लेकर मांग तक भरा जाता है।

इसके अलावा बीती रात को कुछ ने कोसी भी रही। यह माना जाता है कि मनन्त मांगने वाले लोगों को कोसी भरनी चाहिए। इस रिवाज के साथ छठी माता के किर्तन भजन भी किए जाते हैं, लेकिन इस साल कोरोना के कारण प्रथा का समान्य तरीके से पूरा किया गया।

गाइडलाइन का किया गया पालन

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन ने घाटों में व्यवस्था कर रखी थी। जिसका पालन लोगों ने अपने स्तर पर किया। मास्क पहनने के लिए लोगों से अपील भी की जाती रही।

Share The News
Read Also  शुक्रवार की सुबह: प्रेम केवल एक भावना नहीं है,यह आपका अस्तित्व है

Get latest news on Whatsapp or Telegram.