किसान आज अंतिम बार सरकार से करेंगे चर्चा,हल निकलने की उम्मीद कम

नई दिल्ली। तीनों कृषि कानूनों को रद्द किए जाने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे किसान व केन्द्र के बीच आज शुक्रवार को फिर बैठक होगी। किसानों का कहना है कि इस बैठक में भी उनकी मांग नहीं मानी गई तो आगे वह बैठक नहीं करेंगे। वहंी कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने गुरुवार को कहा कि सरकार 15 जनवरी को खुले दिमाग के साथ किसान नेताओं के साथ बातचीत के लिए तैयार है। नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार की किसान नेताओं के साथ नौवें दौर की बातचीत शुक्रवार को होने वाली है और केंद्र सकारात्मक चर्चा को लेकर आशान्वित है। तोमर ने कहा कि सरकार और किसान प्रतिनिधियों के बीच बातचीत 15 जनवरी को दोपहर 12 बजे से होगी। किसान और सरकार के बीच यह नौवें दौर की वार्ता होगी। इसके पहले सरकार और किसान नेताओं के बीच आठ जनवरी को वार्ता हुई थी।
नहीं निकला समाधान तो यह होगी आखिरी वार्ता:
वहीं, भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि प्रदर्शनकारी किसान संघ सरकार के साथ निर्धारित नौवें दौर की वार्ता में शामिल होंगे और उन्होंने कहा कि गतिरोध को सुलझाने के लिए बातचीत जारी रखना और आंदोलन समाप्त करना आवश्यक है। यह पूछे जाने पर कि क्या किसान संगठनों को शुक्रवार की बैठक से कोई उम्मीद है, तो टिकैत ने कहा कि देखते हैं कि कल क्या होता है। लेकिन, हमारी बैठकें सरकार के साथ तब तक जारी रहेंगी जब तक हमारा विरोध खत्म नहीं हो जाता। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हम सरकार के साथ बैठकों का विरोध नहीं करेंगे। अंत में उन्होंने कहा कि अगर कल कोई समाधान नहीं निकला तो सरकार के साथ नौवें दौर की वार्ता अंतिम हो सकती है।
बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानूनों के अमल पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाई हुई है। कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई करते हुए एक कमेटी का गठन भी किया हुआ है।

Share The News
Read Also  जानिए चीनी झड़प में शहीद होने वाले 20 जवानों में कर्नल संतोष बाबू की जिंदगी के बारे में

Get latest news on Whatsapp or Telegram.