लॉकडाउन में बढ़ीं सीरियल के सितारों, मजदूरों और तकनीशियनों की मुश्किलें

Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (1)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (1)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (2)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (2)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (3)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (3)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (4)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (4)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (5)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (5)
previous arrow
next arrow

मुम्बई: पिछले साल जी टीवी पर मई में शुरू हुए और फिर 7 महीने यानि नवंबर‌, 2019 में बंद हुए शो ‘हमारी बहू सिल्क’ के 15 प्रमुख किरदारों और शो से जुड़े अन्य 25-30 अन्य लोगों का पेमेंट पिछले एक साल से अटका हुआ है. मगर शो के निर्माताओं – ज्योति गुप्ता, दिवयानी रेले और सुंधाशु त्रिपाठी के कानों में जूं तक नहीं रेंगे रही है. लॉकडाउन ने इन तमाम लोगों की मुश्किलों को बढ़ा दिया औए ऐसे में यह यह सभी किसी भी तरह से अपना बकाया पैसा चाहते ताकि लॉकडाउन के इस माहौल में उनकी मुसीबतें कम हों.

ऐसे में एबीपी न्यूज़ ने शो में मुख्य रोल निभानेवाले चार कलाकारों – जान खान, चाहत पांडे और रीवा से बकाया पैसों और लॉकडाउन की मुश्किलों पर बात की. जानिए चारों ने हमें क्या कुछ बताया.

जान खान‌: मैंने अप्रैल, 2019 में शो के लिए लीड के तौर पर काम करना शुरू किया था और शो मई में ऑनेयर गया था. 90 दिनों में पेमेंट के रूल के हिसाब से मुझे तीन महीने‌ बाद 20 दिनों के काम‌ के पैसे मिले थे. शो नवंबर में बंद हो गया,‌ लेकिन मुझे बाकी छह महीने यानि मुझे 90% मेहनताना अभी तक नहीं मिला है. मुझे ही नहीं, मेरे साथ शो‌ में काम करनेवाले बाकी तमाम कलाकारों, 2-4 दिन के‌ लिए शो में काम करनेवाले जूनियर आर्टिस्ट्स,‌ मेकअप मैन, हेयर ड्रेसर्स, कैमरामैन और तमाम‌ डिपार्टमेंट के लोगों का पैसा बकाया है. शो के प्रमुख 15 कलाकारों का तकरीबन 1.20 करोड़‌ रुपये और 25-30 मजदूरों व टेक्नीशियनों का कुल 80 लाख रुपये यानि निर्माताओं पर दो करोड़‌ रुपये‌ की देनदारी बनती है. फोन करने पर शो के निर्माता – ज्योति गुप्ता, देवयानी रेले और सुधांशु त्रिपाठी की तरफ से कभी कोई ठोस जवाब नहीं मिलता है. ज्योति गुप्ता ने हमें यहां तक कहा कि तुम लोगों को जो करना है करो. पिछले एक साल से अपने ही पैसे मांग-मांगकर शो के‌ तमाम कलाकार और अन्य लोग परेशान हो चुके हैं.

Read Also  अमिताभ बच्चन की इस फिल्म ने की थी 'बाहुबली 2' से ज्यादा कमाई

लॉकडाउन के इस माहौल में और पैसे के अभाव इनमें से मजदूरों और तकनीशियनों के जेहन में अब खुदकुशी के‌ ख्याल आने लगे हैं. अगर पैसे के लिए कोई ऐसा कदम उठा लेता है, तो किसी के साथ इससे बुरा किसी के साथ क्या हो सकता है? सात महीने‌ में ही शो के‌ नवंबर‌, 2019 में अचानक से बंद हो जाने के बाद‌ हमें लगा कि चलो निर्माताओं को भी नुकसान उठाना पड़ा होगा, तो ऐसे में हम इंतजार करते गये, लेकिन पैसों के‌ लिए मेरा और‌ शो के‌ लिए काम करनेवाले तमाम लोगों का इंतजार कभी न खत्म होनेवाला साबित हो रहा है. ये सब देखकर लगता है जैसे लोगों में इंसानियत बची ही नहीं है.

चाहत पांडे: हमारे पिछले शोज की पूरी सेविंग कब की खत्म हो गयी है. बिना आमदनी‌ के एक साल तक मुम्बई जैसे शहर में सरवाइव करना बहुत मुश्किल है. इसीलिए मैं अब मध्य प्रदेश में दमोह स्थित अपने घर में वापस आ गयी हूं. शो के निर्माताओं की तरफ से हम कलाकारों को कुल मेहनताने का 40% पैसे देने का ऑफर था, मगर हमने ऑफर ठुकरा दिया. हमने 12 घंटे की बजाय 18-20 घंटे भी शो के लिए काम किया है. ऐसे में हम‌ इतने कम पैसे में समझौता कैसे कर लेते? निर्मातों के बार बार हमें यह झूठ भी बोला की जी टीवी की तरफ से उन्हें पैसे नहीं मिले हैं, ऐसे में वो हमें पेमेंट नहीं कर सकते हैं. चैनल की तरफ से ज्यादातर पैसे निर्माताओं को दिये जा चुके हैं, लेकिन वो पैसा भी हम तक नहीं पहुंचा है.

Read Also  अपने लेटेस्ट इंस्टाग्राम तस्वीर में विराट ने पहनी 8,60,700 रुपये की घड़ी, तस्वीर हो रही है वायरल

मुम्बई में खाने-पीने का खर्च, घर का किराया, खुद को मेंटटेन करना कोई मामूली बात नहीं. पिछले एक साल से मैं जैसे-तैसे मैनेज कर रही थी, लेकिन लॉकडाउन ने सबकी मुश्किलें बढ़ा दी हैं. ऐसे में अब हमें इन पैसों की सख्त जरूरत है. पैसों की तंगी की वजह से लोगों के‌ दिमाग में आत्महत्या करने का ख्याल आना स्वाभाविक है. शो से जुड़े कई मजदूर और तकनीशियन खुदकुशी की बातें करने लगे हैं. अगर निर्माताओं ने ऐसे संजीदा वक्त में पैसे नहीं दिये तो बहुत देर हो जाएगी.

रीवा चौधरी: मैं मुम्बई में अपने भाई के घर में रहती हूं और मुझे हर महीने किराया चुकाने‌ की जद्दोजहद से नहीं गुजरना पड़ रहा है और न ही मुझे बाकी कलाकारों की तरह मुम्बई छोड़कर वापस जाना पड़ा है. लेकिन मेरे साथ भी तमाम तरह के खर्चे जुड़े हुए हैं. लॉकडाउन है, सारे काम बंद हैं और पिछले सीरियल के पैसे के लिए भी हमें एक साल से स्ट्रगल कर रहे हैं. शो से जुड़े तमाम डेली वेज वर्कर्स, जूनियर आर्टिस्ट्स और तकनीशियन दाने-दाने‌ को मोहताज हो गये हैं, मगर सीरियल के निर्माताओं के कान में जूं तक नहीं रेंग रही है. उन्हें शो के लिए दिन-रात एक कर देनेवाले इन लोगों की तकलीफें दिखायी नहीं दे रहीं हैं. शो‌ के तीनों निर्माताओं ने अपने हक के पैसे मांगनेवाले सभी को फोन पर ब्लॉक कर दिया है. मुझे नहीं पता था पहले ही सीरियल‌ में काम करने का‌ मेरा अनुभव इतना बुरा साबित होगा. मैं बस उम्मीद करती हूं कि आर्थिक तंगी से गुजर रहा कोई शख्स खुदकुशी न कर ले.

Read Also  'अनुपमा' में आने वाला है ट्विस्ट, क्या काव्या और वनराज को घर से जाना होगा बाहर?

कीर्ति चौधरी: पिछले साल नवंबर में सीरियल बंद हो जाने के बाद किसी सीरियल में मुझे काम नहीं मिला. शो‌ के ज्यादातर कलाकारों का यही हाल है. मैं एंकरिंग, इवेंट्स और मॉडलिंग कर जैसे तैसे खुद को संभाला. लेकिन लॉकडाउन के चलते मुझे मेरी मुसीबतें बेतहाशा बढ़ गयी. कोई बड़ा काम नहीं मिलने के चलते मैं अपने घरवालों से पैसे लेकर‌ महीने का खर्च चला रही थी. मार्च महीने में मैं अपने घर इंदौर आ गयी क्योंकि मैं अपने घर का‌ किराया भी नहीं दे पा रही थी. सोचिए जब हम एक्टर्स की यह हालत है तो सेट पर काम करनेवाले तमाम मजदूरों और तकनीशियन की क्या हालत होगी? उनके पास तो खाने-पीने की भी समस्या पैदा हो गयी है. लॉकडाउन के इस दौर में एक्टर से लेकर तमाम लोगों के सुइसाइड करने की खबरें आ‌ रहीं हैं. ऐसे में अगर किसी ने खुदकुशी कर ली तो उसका जिम्मेदार कौन होगा? चैनल या शो के प्रोड्यूसर्स?

Share The News


CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


पत्रकार सुरक्षा कानून को लेकर स्टेट वर्किग जर्नलिस्ट यूनियन ने मुख्यमंत्री का जताया आभार

By Sub Editor / March 25, 2023 / 0 Comments
रायपुर। स्टेट वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन छत्तीसगढ़ के प्रतिनिधिमंडल ने शुक्रवार 24 मार्च को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात की। यूनियन के अध्यक्ष पीसी रथ, महासचिव विरेन्द्र शर्मा, संगठन सचिव सुधीर आज़ाद तम्बोली और कुणाल दत्त मिश्रा ने मुख्यमंत्री...

छग का नाम रौशन करेंगे अर्पण के मूक-बधिर बच्चे सुभाष शर्मा ने किया मूर्ति निर्माण प्रशिक्षण कार्यशाला का अवलोकन

By Sub Editor / March 22, 2023 / 0 Comments
रायपुर, 22 मार्च। अर्पण कल्याण समिति द्वारा राजेन्द्रनगर में संचालित अर्पण दिव्यांग पब्लिक स्कूल में अध्ययनरत मूक-बधिर बच्चों को मूर्ति निर्माण कला सिखाई गई। संचालनालय पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय द्वारा दस दिवसीय पुरातत्वीय प्लास्टर कास्ट प्रतिकृति प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन...
cm

 मुख्यमंत्री ने चेट्रीचण्ड्र (चैतीचांद) की दी शुभकामनाएं 

By Rakesh Soni / March 22, 2023 / 0 Comments
रायपुर-  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों विशेषकर सिंधी समुदाय को चेट्रीचण्ड्र (चैतीचांद) की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दीं हैं। उन्होंने इस अवसर पर सभी नागरिकों के लिए सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना की है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि चेट्रीचण्ड्र...

राजधानी में थाना प्रभारी का हुआ तबादला

By Sub Editor / March 28, 2023 / 0 Comments
रायपुर। राजधानी रायपुर में थाना प्रभारियों और सब इंस्पेक्टरों का ट्रांसफर किया गया है। एसएसपी प्रशांत अग्रवाल ने 5 निरीक्षक और 5 सब इंस्पेक्टर का तबादला आदेश जारी किया है। अर्चना धुरंधर को सिविल लाइन का थाना प्रभारी बनाया गया...
gutkha

एक अप्रैल से पान मसाला और सिगरेट होगा महंगा

By Reporter 1 / March 27, 2023 / 0 Comments
केंद्र सरकार ने पान मसाला, सिगरेट और तंबाकू के अन्य उत्पादों पर जीएसटी कंपनसेशन सेस अधिकतम दर से लागू करने का फैसला किया गया है। यह अधिकतम सेस इन उत्पादों की खुदरा बिक्री मूल्य के आधार पर वसूला जाएगा। जीएसटी...

छत्‍तीसगढ़ में फिर ईडी की छापेमारी, बड़े उद्योगपतियों के ठिकानों पर दबिश

By Sub Editor / March 28, 2023 / 0 Comments
  छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर समेत कई शहरों में एक बार फिर ईडी ने छापेमारी की है। राज्य के बड़े उद्योग समूह के ठिकानों पर ईडी की टीम ने छापेमारी की है। ईडी की यह कार्रवाई कोयला परिवहन घोटाले में...
one day

वनडे विश्व कप के मैच 12 शहरों में होंगे

By Reporter 1 / March 22, 2023 / 0 Comments
इस साल के अंत में भारत में होने वाले वनडे विश्व कप के मैच 12 शहरों में होंगे। रिपोर्ट के अनुसार, विश्व कप की शुरुआत पांच अक्टूबर से होगी और फाइनल मैच 19 नवंबर को अहमदाबाद के नरेन्द्र मोदी स्टेडियम...

रायपुर ऑटो एक्सपो में सरकार दे रही है टैक्स में 50 प्रतिशत की छूट

By Sub Editor / March 23, 2023 / 0 Comments
ऑटो मोबाइल्स व्यवसाय में होगी वृद्धि रायपुर | मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राडा की मांग पर आवश्यक पहल करते हुए राजधानी रायपुर में आयोजित आटो एक्सपो-2023 में सभी प्रकार की वाहनों पर रोड टैक्स में 50 फीसदी की छूट की...

बाहरी एनजीओ का ग्रामों में हस्तक्षेप का ग्रामीणों ने किया विरोध, खदान के विरोध के लिए ग्रामीणों को बरगलाने की कर रहे थे कोशिश

By Sub Editor / March 22, 2023 / 0 Comments
कहा हमें अब सिर्फ सरकार और कंपनी का चाहिए हस्तक्षेप साल्हि। उदयपुर तहसील में स्थित परसा ईस्ट और केते बासेन (पीईकेबी) कोयला खदान परियोजना के बंद होने की खबर से सरगुजा के जिला मुख्यालय सहित आस पास के ग्रामों के...
china putin

पुतिन और चिनफिंग के बीच यूक्रेन संघर्ष विराम पर हुई चर्चा

By Reporter 1 / March 22, 2023 / 0 Comments
रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने बीजिग के प्रस्ताव पर चर्चा की। मास्को में वार्ता के दौरान यूक्रेन में संघर्ष विराम पर बातचीत हुई। शी चिनफिंग ने कहा है कि चीन रूस के साथ अपने...

Leave a Comment