अजब युद्ध: जब फसल बचाने हजारों जंगली पक्षियों के साथ भिड़ गए थे इस देश के सैनिक

इतिहास के पन्नों में हमें लड़ाई के कई किस्सों के बारे में पढऩे को मिलता है। लेकिन क्या आपने कभी इंसान और पक्षियों के बीच लड़ाई के बारे में सुना या देखा है। आपको ये बात थोड़ी अजीब जरूर लग रही होगी। आपको बता दें कि ये रोचक घटना साल 1932 की है, जिसके बारे में जो भी सुनता है, वो हैरान हुए बिना नहीं रहता। दरअसल, ऑस्ट्रेलिया सरकार ने प्रथम विश्वयुद्ध के बाद सेवानिवृत हुए कुछ सैनिकों को पुनर्वास के लिए जमीनें दी थी। सैनिकों को जो जमीन मिली थी, वो पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में थीं। अब सैनिक यहां किसान बन गए और अपनी-अपनी जमीनों पर खेती करने लगे, लेकिन कुछ ही समय बाद उनके फसलों पर विशालकाय जंगली पक्षी एमू का हमला हो गया। यहां सबसे हैरान करने वाली बात ये थी कि इन पक्षियों की संख्या 2-4 नहीं बल्कि 20 हजार के करीब थी। एमू का झुंड आता और किसानों की फसलों को बर्बाद करके चला जाता। सिर्फ यहीं यहीं, उन्होंने खेतों की रक्षा के लिए जो फेंसिंग लगाई थी, उसे भी उन पक्षियों ने तोड़ दिया था। जब ऐसा अक्सर होने लगा तो किसान बने सैनिकों का एक प्रतिनिधिमंडल सरकार के पास अपनी गुहार लेकर पहुंचा। अब समस्या की गंभीरता को देखते हुए किसानों की मदद के लिए ऑस्ट्रेलिया के तत्कालीन रक्षामंत्री ने मशीन गन से लैस सेना की एक टुकड़ी भेजी। 2 नवंबर, 1932 का दिन था। सरकार द्वारा भेजी गई सेना ने एमूओं को भगाने वाला ऑपरेशन शुरू किया। उन्हें एक जगह पर 50 एमूओं का झुंड दिखा, लेकिन जब तक वो मशीन गन से उनपर निशाना लगाते, तब तक उन पक्षियों का झुंड यह समझ गया कि उनपर हमला होने वाला है और वो वहां तेजी से भाग निकले और मशीन गन की रेंज से दूर हो गए। 4 नवंबर, 1932 को भी कुछ ऐसा ही हुआ। सैनिकों ने करीब 1000 एमूओं का एक झुंड देखा और वो उनपर अभी फायर करने ही वाले थे कि मशीन गन जाम हो गई। जब तक मशीन गन ठीक हो पाती, तब तक अधिकतर एमू वहां से भाग गए थे। हालांकि फिर भी सैनिकों ने करीब 12 एमूओं को मार गिराया था, लेकिन इस घटना के बाद से एमू काफी सतर्क हो गए। कहा जाता है कि इन जंगली पक्षियों ने सैनिकों के हमलों से बचने के लिए खुद को छोटे-छोटे समूहों में बांट लिया था और हर समूह में एक एमू निगरानी के काम में लगा रहता था, ताकि उनपर हमला न हो या हमला होने से पहले ही वो बाकियों को सतर्क कर दे, जिससे सभी वहां से भाग निकलें। इस दौरान वो फसलों को खूब बर्बाद करते रहे, लेकिन जैसे ही उन्हें लगता कि उनपर हमला होने वाला है तो वो वहां से भाग निकलते। छह दिन तक चले इस ऑपरेशन में सैनिकों द्वारा करीब 2500 राउंड फायर किए गए थे, लेकिन 20 हजार एमूओं में से मुश्किल से वह 50 को ही मारने में सफल हो पाए थे। बाद में जब इन घटनाओं पर मीडिया की नजर पड़ी, तो पूरे देश में इसकी चर्चा शुरू हो गई और सरकार की आलोचना होने लगी। आखिरकार सरकार ने सेना को वापस बुला लिया। लेकिन जब खेतों पर एमूओं के हमले काफी तेज हो गए। ऐसे में एक बार फिर 13 नवंबर को सेना ने ऑपरेशन शुरू किया। हालांकि, पिछली बार की तरह इस बार भी इन पक्षियों ने सैनिकों को खूब छकाया और उन्हें हारने और वहां से जाने पर मजबूर कर दिया। कहते हैं कि सेना द्वारा चलाए गए इस ऑपरेशन के इंचार्ज मेजर मर्डिथ ने कहा था कि अगर उनके पास भी एमू पक्षियों की एक डिवीजन होती और वो गोली चला सकते, तो वो दुनिया की किसी भी मिलिट्री का सामना कर सकते थे। इस घटना को एमू वॉर या द ग्रेट एमू वॉर के नाम से जाना जाता है।

Share The News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 





भारत ने संभाली संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की कमान तो पाकिस्तान को सताने लगा डर

By Reporter 5 / August 1, 2021 / 0 Comments
भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभाली तो पाकिस्तान को डर सताने लगा है। रविवार को अगस्त के लिए कमान संभाला तो भारत में रूस के राजदूत निकोले कुदाशेव ने ट्वीट कर कहा कि एजेंडे में समुद्री सुरक्षा,...

अधिग्रहण मामला: सीएम बघेल के दामाद ने इंडियन एक्सप्रेस और केंद्रीय मंत्रियों को भेजा कानूनी नोटिस

By Rakesh Soni / August 4, 2021 / 0 Comments
रायपुर। दुर्ग जिले में स्थित चंदूलाल चंद्राकर मेमोरियल मेडिकल कॉलेज के अधिग्रहण की खबर सबसे पहले इंडियन एक्सप्रेस ने छापा था। जिसमें कहा गया कि भूपेश बघेल अपने दामाद को फायदा पहुंचाने के लिए अधिग्रहण बिल ला रहे हैं। अब...

देश के वीर जवानों की कलाइयों पर सजेगी उज्जैन की राखियां

By Reporter 5 / August 4, 2021 / 0 Comments
संगिनी ग्रुप 3000 राखियां भेजेगा उज्जैन,अशोक महावर। शहर की एक मात्र संस्था जो दीनदुखियों की सहायता के लिए हमेशा तात्पर्य रहती है। कोरोना काल मे संगिनी ग्रुप ने हजारों लोगों को भोजन सामग्री प्रदान कर एक इतिहास रचा है। ग्रुप...

छत्तीसगढ़: सोलर संयंत्र लगाने मिल रहा सब्सिडी

By Reporter 5 / August 4, 2021 / 0 Comments
छत्तीसगढ राज्य विद्युत नियामक आयोग द्वारा माह अक्टूबर 2019 में ग्रिड इंटरैक्टिव विकेन्द्रित नवीकरणीय ऊर्जा स्तोत्र विनियम 2019 जारी किया गया है जिसके तहत् उपभोक्ताओं द्वारा सौर संयंत्र स्थापना उपरांत ग्रिड में प्रवाहित विद्युत का नेट मीटरिंग प्रणाली पर समायोजन...

केन्द्र द्वारा जनहित और देशहित के प्रश्नों को संसद में लगने के बाद निरस्त करना जनविरोधी कृत्य: छाया वर्मा

By Rakesh Soni / August 2, 2021 / 0 Comments
रायपुर- कांग्रेस पार्टी की राज्य सभा सांसद छाया वर्मा द्वारा इस मानसून सत्र में जनहित और देशहित से जुड़े प्रश्नों को संसद में नियम विरूद्ध निरस्त किया जा रहा है। कई गंभीर मुद्दों को संसद में उठाने से उन्हें रोका...

अगर आपको है शुगर और ब्लडप्रेशर तो खाइये यह सब्जी

By Rakesh Soni / August 4, 2021 / 0 Comments
रायपुर। भारत में शुगर और ब्लडप्रेशर की बीमारी आम हो चली है। अनियमित खानपान के चलते अधिकांश लोगों में इस बीमारी ने घर कर लिया है। ज्यादा तवान लो तो ब्लडप्रेशर बौर ज्यादा मीठा खा लो तो शुगर की बीमारी...

स्तनपान कराने से माताओं को भी लाभ होता है: यूनिसेफ

By Reporter 5 / August 1, 2021 / 0 Comments
हर साल 1 से 7 अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है। रायपुर। विश्व स्तनपान सप्ताह के इस अवसर पर स्तनपान के महत्व और लाभों का उल्लेख करते हुए, यूनिसेफ छत्तीसगढ़ के प्रमुख जॉब ज़करिया ने कहा हैं कि...

कलिंगा विश्वविद्यालय में दो दिवसीय निःशुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन

By Reporter 5 / August 4, 2021 / 0 Comments
रायपुर। कलिंगा विश्वविद्यालय मध्य भारत के अग्रणी विश्वविद्यालयों में से एक है। कलिंगा विश्वविद्यालय सदैव छात्रों के साथ-साथ कर्मचारियों के कल्याण हेतु प्रयासरत रहता है। हाल ही में विश्वविद्यालय ने सीएमएचओ, रायपुर की सहयोग से छात्रों और कर्मचारियों के लिए...

एक साथ पति से पांच पत्नियों ने लगातार बनाया शारीरिक संबंध, इसके बाद यह हुआ

By Reporter 5 / August 1, 2021 / 0 Comments
आमतौर पतियों पर पत्नियों को बेवफाई की सजा देने और उनसे मार-पीट की बात सामने आती है। मगर नाइजीरिया में एक अजीब मामला सामने आया है। यहां एक करोड़पति व्यक्ति के साथ उसकी छह में से पांच पत्नियों ने लगातार...

सेना में करियर बनाने के इच्छुक छात्रों के लिए राह खुली

By Reporter 5 / August 3, 2021 / 0 Comments
एनडीए की निःशुल्क कक्षाएं आरंभ दुर्ग। जिला प्रशासन द्वारा एनडीए की निःशुल्क कक्षाएं आरंभ कर दी गई है। निःशुल्क कक्षा में 25 छात्र हिस्सा ले रहे हैं।इसकी कोचिंग सेक्टर 6 में दी जा रही है। हर दिन 3 घंटे कक्षाएं...