बस्तर संभाग में डेंगू,मलेरिया, जापानी इंसेफेलाइटिस एवं डिप्थीरिया की रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाएं

स्वास्थ्य विभाग ने बारिश में डेंगू व मलेरिया के मच्छरों से सावधान रहने कहा

रायपुर। बरसात का मौसम शुरू होते ही मच्छरजनित रोगों जैसे डेंगू,मलेरिया और जापानी इंसेफेलाइटिस (जापानी बुखार) के मामले बढ़ जाते हैं। मौसम में हुआ बदलाव डेंगू व मलेरिया के मच्छरों के लार्वा को पनपने के लिए अनुकूल वातावरण देता है। इसके चलते बारिश में डेंगू-मलेरिया के लार्वा में तेजी से बढ़ोतरी होती है। मच्छरों से बचाव के व्यापक उपाय नहीं बरतने से डेंगू और मलेरिया जैसे रोग घातक साबित हो सकते हैं। संचालक, महामारी नियंत्रण डॉ. सुभाष मिश्रा ने बताया कि बस्तर क्षेत्र में मलेरिया, डेंगू के बढ़ते मामलों को देखते हुए शासन द्वारा बस्तर संभाग के सभी जिलों को इन बीमारियों के रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं । स्वास्थ्य विभाग ने ग्रामीण क्षेत्रों में साफ-सफाई का निरीक्षण एवं ग्रामीणों को इन बीमारियों से बचाव की जानकारी के साथ ही जिले में स्थानीय प्रशासन के माध्यम से जन-जागरूकता अभियानों में मेडिकेटेड मच्छरदानी लगाकर सोने, घर के आसपास पानी का जमाव न होने व घरों में मच्छर प्रतिरोधी स्प्रे एवं अन्य बचाव के आवश्यक उपायों के बारे में जानकारी देने के निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुखार के सभी मामलों की सूचना राज्य स्तर पर देने एवं मरीजों को तुरंत भर्ती कर संक्रमण की जाँच करने कहा गया है। जांच के परिणाम आने तक मरीज को आइसोलेट कर इलाज उपलब्ध कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। राज्य स्तर पर डॉ. जितेन्द्र कुमार को इसके लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। उनके मोबाइल नंबर 94791-07919 पर संपर्क कर आवश्यक मार्गदर्शन लिया जा सकता है। डॉ. मिश्रा ने बताया कि डेंगू संक्रमित मादा एडीस म़च्छर के काटने से स्वस्थ्य व्यक्ति के शरीर में वायरस प्रवेश कर रोग संक्रमण उत्पन्न करता है। मादा एडीस मच्छर इस वायरस का वाहक है जो स्थिर पानी जैसे कूलर, टंकी या घर में खुले रखे बर्तन जिसमें कई दिनों से पानी बदला न गया हो, वहाँ डेंगू के मच्छर पनपते हैं। यह मच्छर दिन में ही काटता हैं। डेंगू के मरीज को दिन में भी मच्छरदानी लगाकर सोना चाहिए जिससे कि मच्छर उन्हें काट कर रोग को न फैलाए?।

Read Also  राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन : 41.56 करोड़ रूपए की कार्ययोजना अनुमोदित

डेंगू ,मलेरिया और जापानी इंसेफेलाइटिस के प्रमुख लक्षण

डॉ. मिश्रा ने बताया कि डेंगू ,मलेरिया और जापानी इंसेफेलाइटिस के प्रमुख लक्षणों में अचानक कंपकंपी के साथ बुखार आना, आँखों के पीछे व मांसपेशियों में दर्द, छाती, गला और चेहरे पर लाल दाने उभरना है। इन बीमारियों में लगातार बुखार रहता है। इनमें पेट में दर्द, उल्टी, सरदर्द, बेचैनी या सुस्ती के भी लक्षण होते हैं। ये सारे लक्षण डेंगू के मच्छर के काटने के एक सप्ताह के बाद दिखाई देते हैं। इस स्थिति में बीमारी का समय पर अच्छा इलाज होना जरुरी है। त्वरित इलाज से इस बीमारी से बचा जा सकता है। डेंगू होने पर कभी-कभी नाक व मसूड़ों से खून निकलता है। उल्टी में भी खून नजर आता है। खून के कारण मल काला दिखाई देता है। डेंगू के प्रभाव के कारण खून में सफेद रक्तकोशिका और प्लेटलेट्स की मात्रा कम होती जाती है। बुखार और रक्तस्त्राव में कुछ मामलों में स्थिति और बिगड़कर रक्तचाप गिरने लगता है। ऐसी स्थिति निर्मित होने पर मरीज को बिना देरी के तुरंत डॉक्टर के पास ले जाना चाहिए। समय पर इलाज न होने से मरीज की स्थिति और खराब हो सकती है। कई परिस्थितियों में डेंगू से जान जाने का खतरा भी रहता है।

 

डेंगू-मलेरिया से बचाव के उपाय

 

बारिश में जलभराव के साथ ही पानी जमा होने से डेंगू-मलेरिया के लार्वा पनपने लगते है। डेंगू-मलेरिया से बचाव के लिए आवश्यक है कि अपने आसपास कहीं भी पानी जमा न होने दें । डेंगू-मलेरिया वेक्टरजनित रोग है जिसमें लक्षित जनसंख्या समूह में व्यापक व्यवहार परिवर्तन गतिविधियों के माध्यम से जागरुकता विकसित कर डेंगू-मलेरिया के प्रकोप से बचा जा सकता है। घर में रखे पुराने बर्तन, टायर, गमलों और आसपास पानी इकट्ठा न होने दें। साथ ही मच्छरों के लार्वा को खत्म करने के लिए नालियों में जले हुए तेल का छिड़काव करें। पूरी बांह के कपड़े पहनें और सोते समय मच्छरदानी लगाएं। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को स्वास्थ्य विभाग द्वारा मच्छरदानी वितरण व उसके उपयोग हेतु प्रेरित करने का काम भी किया जा रहा है। डेंगू ,मलेरिया व जेई (जापानी इंसेफेलाइटिस) के लक्षण होने पर अपने निकटतम शासकीय स्वास्थ्य केन्द्र में जाकर चिकित्सक से परामर्श लें।
डॉ. मिश्रा ने बताया कि डिप्थीरिया एक गंभीर बैक्टीरियल संक्रमण से होता है जो नाक और गले की श्लेष्मा झिल्ली को प्रभावित करता है। डिप्थीरिया आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है, लेकिन दवाएं लेने से इस बीमारी से बचा जा सकता है। डिप्थीरिया के कुछ लक्षण आमतौर पर जुकाम के लक्षणों जैसे होते हैं। डिप्थीरिया के कारण गला खराब, बुखार, ग्रंथियों में सूजन और कमजोरी आदि समस्याएं होती हैं। गहरे ग्रे रंग के पदार्थ की एक मोटी परत गले के अंदर जमना इसकी पहचान का मुख्य लक्षण होता है। यह परत सांस लेने वाली नलिकाओं को अवरुद्ध कर सकती है जिससे सांस लेने में दिक्कत होने लगती है। डिप्थीरिया का इलाज करने के लिए दवाएं उपलब्ध हैं। बीमारी के अधिक बढ़ने से डिप्थीरिया हृदय, किडनी और तंत्रिका तंत्र को भी प्रभावित कर सकता है।
**

Share The News


CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


अरुण साव को बनाया भाजपा प्रदेश अध्यक्ष

By Rakesh Soni / August 9, 2022 / 0 Comments
रायपुर। भाजपा ने बड़ा परिवर्तन किया है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बिलासपुर के सांसद अरूण साव को छत्तीसगढ़ का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। इस संबंध में राष्ट्रीय महासचिव अरूण सिंह ने आदेश जारी किया है। अरुण...

Ekhabri विशेष: 11 अगस्त को भद्रा समाप्त होने के बाद बांधी जाएगी राखी, 12 को दिनभर बांध सकते हैं राखी

By Reporter 5 / August 8, 2022 / 0 Comments
रायपुर। राखी बंधने को लेकर कई तरह की बात सामने आ रही है। पंचांग अलग अलग होने के कारण पंडित भी अलग-अलग तर्क देरहे हैं। कुछ 11 तारीख को रक्षाबंधन को सही बता रहे हैं तो कुछ भद्रा होने के...

बिजली बिल हाफ पर अब लाभ की पर्ची:बिल के साथ स्लिप देकर बताया जा रहा कितनी छूट दी गई

By Rakesh Soni / August 7, 2022 / 0 Comments
  रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी ने बिजली बिल हाफ योजना पर नया दांव खेला है। बिजली कंपनी जुलाई महीने के बिल के साथ एक अलग पर्ची भी दे रही है। इसमें बताया जा रहा है कि बिजली बिल...

बोल बम…सीएम निकले कांवड़ यात्रा पर

By Rakesh Soni / August 5, 2022 / 0 Comments
रायपुर पश्चिम विधानसभा के विधायक विकास उपाध्याय की तरफ से आयोजित कांवड़ यात्रा में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी शामिल हुए। गुढिय़ारी स्थित मारुति मंगलम शुरू कांवड़ यात्रा प्रारंभ हुई। यहां मुख्यमंत्री ने मच्छी तालाब हनुमान मंदिर में पूजा-अर्चना कर प्रदेश...

जानिए क्यों छत्तीसगढ़ में बहनें देती हैं भाइयों को मरने का श्राप

By Rakesh Soni / August 8, 2022 / 0 Comments
रायपुर। भारत अपने अलग-अलग त्योहरों और रीति रिवाजों के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है। इन्हीं त्योहारों में शामिल है रक्षाबंधन जो सावन महीने की पूर्णिमा को मनाया जाता है। यह त्योहार भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को दर्शाता है।...

धरना दे रहे कांग्रेसियों की जेब काटी, नेता के जेब से 50 हजार ले उड़े चोर

By Rakesh Soni / August 5, 2022 / 0 Comments
रायपुर। रायपुर में शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन करने जुटे कांग्रेसी नेता चोरी की वारदात का शिकार हो गए। बताया जा रहा है कि कई नेताओं के सामान भीड़ में इधर-उधर हो गए। कुछ नेताओं के साथ हुई घटना से साफ...

डायबिटीज को नियंत्रित करने में सहायक हो सकता है एक्यूपंक्चर

By Reporter 1 / August 4, 2022 / 0 Comments
शरीर जब सही तरीके से रक्त में मौजूद ग्लुकोज या शुगर का उपयोग नहीं कर पाता तब व्यक्ति में डायबिटीज की समस्या आती है। यह भारत सहित दुनियाभर में आम बीमारी है। एक ताजा अध्ययन में इसे नियंत्रित करने में...

छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा बड़े पैमाने में भर्ती निकली

By Reporter 5 / August 4, 2022 / 0 Comments
रायपुर। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा बड़े पैमाने में भर्ती की जा रही है। भृत्य के कुल 91 पदों में सीधी भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया है। इन पदों की प्रथम चरण की लिखित परीक्षा रविवार 25 सितंबर...

ब्लैक कोबरा फैमिली कार में बैठकर पहुंची जंगल, :रायपुर में 14 कोबरा का किया गया रेस्क्यू

By Rakesh Soni / August 5, 2022 / 0 Comments
 सपेरों की रेस्क्यू टीम के साथ झड़प रायपुर। रायपुर के कई गली मोहल्लों में सांप की नुमाइश कर पैसे कमाते कुछ लोग दिख जाते हैं। दरअसल वन अधिनियम के तहत ऐसा किया जाना गैरकानूनी है। अब ऐसे लोगों के खिलाफ...

राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से मिले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

By Rakesh Soni / August 6, 2022 / 0 Comments
रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नई दिल्ली प्रवास के दौरान आज नव निर्वाचित राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सौजन्य मुलाक़ात की। इस दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी और...