टूटी हडिडयों को जोडऩे के साथ कई बीमारियों में फायदेमंद है हडज़ोड़, ऐसे करें प्रयोग

 

रायपुर। हडज़ोड़ को अस्थिसंहार के नाम से भी जाना जाता है। अस्थिसंहार को हिन्दी में हड्डीजोड़ कहते हैं। अस्थिसंहार को आयुर्वेद में औषधि के रुप में सबसे ज्यादा प्रयोग हड्डियों को जोडऩे के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा भी अस्थिसंहार पेट संबंधी समस्या, पाइल्स, ल्यूकोरिया, मोच, अल्सर आदि रोगों के उपचार में भी काम आता है।
सभी भाग दवा की तरह से इस्तेमाल किये जाते हैं
हडज़ोड़ को आयुर्वेद समेत दुनिया के कई पारम्परिक चिकित्सा में इस्तेमाल किया जाता है। इसे थाईलैंड और अफ्रीका में भी इस्तेमाल करते हैं। पौधे के सभी भाग दवा की तरह से इस्तेमाल किये जाते हैं।

 

सोडियम, पोटैशियम और कैल्शियम कार्बोनेट का स्रोत

 

हडज़ोड़ में सोडियम, पोटैशियम और कैल्शियम कार्बोनेट पाया जाता है और इसे टूटी हड्डी जोडऩे में बहुत लाभप्रद पाया गया है। हड्डी जोडऩे में इसका आंतरिक और बाह्य दोनों तरह से इस्तेमाल होता है। आंतरिक रूप से इसके तने का जूस 10 से 20 मिलीलीटर की मात्रा में लिया जाता है। फ्रैक्चर में प्रयोग किये जाने पर यह हड्डी के बनने की दर को बढ़ाता है और हड्डी में रक्त परिसंचरण और पोषक आपूर्ति में सुधार करता है।

 

कई बायोएक्टिव घटक होते हैं

 

हडज़ोड़ के पत्तों और तने में कई बायोएक्टिव घटक होते हैं। इसमें सोडियम, पोटैशियम, कैल्शियम कार्बोनेट, विटामिन सी, विटामिन ई, एसिटिलेटेड ग्लाइकोसाइड्स, रेल्वरेट्रोल ग्लाइकोसाइड्स, रेसवर्टरोल, पाइसैटैनोल, पैलिडोल, पार्टनोकिसिन ए, जेनिस्टीन, क्वाड्रैंगुलरिन एसी और डेडेजिऩ समेत स्टिलबेन यौगिक आदि मौजूद होते हैं।

 

कैसे करें इस्तेमाल

 

हडजोड़ पौधे की पत्तियों को सुखाकर पाउडर बना लें और फिर बराबर मात्रा में उड़द की दाल मिला कर गीला पेस्ट तैयार कर लें। फै्रक्चर हुई हड्डी को जोडऩे के लिए बांस की लकड़ी की मदद से हड्डी को सीधी करें। अब पेस्ट को कॉटन के कपड़े पर लगाकर इसे चोट पर बांध दें और ऊपर से बांस की लकड़ी को कुशा यानि देसी घास से बांधे। हर तीसरे दिन इस लेप को बदलें।
फ्रै क्चर बांधने के अलावा साथ में हडजोड़ की पत्तियां, गेहूं का भुना हुआ आटा, अर्जुन की छाल आदि बराबर मात्रा में लेकर पीस कर पाउडर तैयार कर लें। अगर आपका वजन 60 किलो है तो 6 ग्राम चूर्ण को घी के साथ मिक्स करके खाएं और इसे खाने के बाद हल्दी वाला दूध में शक्कर या शहद डाल कर पीएं। अगर आपको ऊपर वाली चीजें न मिलें तो हडजोड़ की पत्तियां का रस 2 टीस्पून लेकर उसमें 1 चम्मच घी मिक्स करके खाएं। इसे खाने के बाद 250 मि.ली. दूध पीएं। इन चीजों का 4 सप्ताह तक सेवन करें। हडज़ोड़ के तने का जूस, दिन में दो बार 10 से 20 मिलीलीटर की मात्रा में फ्रैक्चर उपचार, कम अस्थि खनिज घनत्व और हड्डियों की कमजोरी सहित हड्डियों के कई रोगों में लिया जाता है।

Share The News


CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


अरुण साव को बनाया भाजपा प्रदेश अध्यक्ष

By Rakesh Soni / August 9, 2022 / 0 Comments
रायपुर। भाजपा ने बड़ा परिवर्तन किया है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बिलासपुर के सांसद अरूण साव को छत्तीसगढ़ का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। इस संबंध में राष्ट्रीय महासचिव अरूण सिंह ने आदेश जारी किया है। अरुण...

Ekhabri विशेष: 11 अगस्त को भद्रा समाप्त होने के बाद बांधी जाएगी राखी, 12 को दिनभर बांध सकते हैं राखी

By Reporter 5 / August 8, 2022 / 0 Comments
रायपुर। राखी बंधने को लेकर कई तरह की बात सामने आ रही है। पंचांग अलग अलग होने के कारण पंडित भी अलग-अलग तर्क देरहे हैं। कुछ 11 तारीख को रक्षाबंधन को सही बता रहे हैं तो कुछ भद्रा होने के...

बिजली बिल हाफ पर अब लाभ की पर्ची:बिल के साथ स्लिप देकर बताया जा रहा कितनी छूट दी गई

By Rakesh Soni / August 7, 2022 / 0 Comments
  रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी ने बिजली बिल हाफ योजना पर नया दांव खेला है। बिजली कंपनी जुलाई महीने के बिल के साथ एक अलग पर्ची भी दे रही है। इसमें बताया जा रहा है कि बिजली बिल...

बोल बम…सीएम निकले कांवड़ यात्रा पर

By Rakesh Soni / August 5, 2022 / 0 Comments
रायपुर पश्चिम विधानसभा के विधायक विकास उपाध्याय की तरफ से आयोजित कांवड़ यात्रा में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी शामिल हुए। गुढिय़ारी स्थित मारुति मंगलम शुरू कांवड़ यात्रा प्रारंभ हुई। यहां मुख्यमंत्री ने मच्छी तालाब हनुमान मंदिर में पूजा-अर्चना कर प्रदेश...

जानिए क्यों छत्तीसगढ़ में बहनें देती हैं भाइयों को मरने का श्राप

By Rakesh Soni / August 8, 2022 / 0 Comments
रायपुर। भारत अपने अलग-अलग त्योहरों और रीति रिवाजों के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है। इन्हीं त्योहारों में शामिल है रक्षाबंधन जो सावन महीने की पूर्णिमा को मनाया जाता है। यह त्योहार भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को दर्शाता है।...

धरना दे रहे कांग्रेसियों की जेब काटी, नेता के जेब से 50 हजार ले उड़े चोर

By Rakesh Soni / August 5, 2022 / 0 Comments
रायपुर। रायपुर में शुक्रवार को विरोध प्रदर्शन करने जुटे कांग्रेसी नेता चोरी की वारदात का शिकार हो गए। बताया जा रहा है कि कई नेताओं के सामान भीड़ में इधर-उधर हो गए। कुछ नेताओं के साथ हुई घटना से साफ...

डायबिटीज को नियंत्रित करने में सहायक हो सकता है एक्यूपंक्चर

By Reporter 1 / August 4, 2022 / 0 Comments
शरीर जब सही तरीके से रक्त में मौजूद ग्लुकोज या शुगर का उपयोग नहीं कर पाता तब व्यक्ति में डायबिटीज की समस्या आती है। यह भारत सहित दुनियाभर में आम बीमारी है। एक ताजा अध्ययन में इसे नियंत्रित करने में...

छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा बड़े पैमाने में भर्ती निकली

By Reporter 5 / August 4, 2022 / 0 Comments
रायपुर। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा बड़े पैमाने में भर्ती की जा रही है। भृत्य के कुल 91 पदों में सीधी भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया है। इन पदों की प्रथम चरण की लिखित परीक्षा रविवार 25 सितंबर...

ब्लैक कोबरा फैमिली कार में बैठकर पहुंची जंगल, :रायपुर में 14 कोबरा का किया गया रेस्क्यू

By Rakesh Soni / August 5, 2022 / 0 Comments
 सपेरों की रेस्क्यू टीम के साथ झड़प रायपुर। रायपुर के कई गली मोहल्लों में सांप की नुमाइश कर पैसे कमाते कुछ लोग दिख जाते हैं। दरअसल वन अधिनियम के तहत ऐसा किया जाना गैरकानूनी है। अब ऐसे लोगों के खिलाफ...

राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से मिले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

By Rakesh Soni / August 6, 2022 / 0 Comments
रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नई दिल्ली प्रवास के दौरान आज नव निर्वाचित राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सौजन्य मुलाक़ात की। इस दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी और...