छह फीट की दूरी काफी नहीं, 20 फीट तक जा सकता है कोरोना वायरस

Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (1)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (1)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (2)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (2)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (3)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (3)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (4)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (4)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (5)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (5)
previous arrow
next arrow

एक अध्ययन में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए एक-दूसरे से छह फीट की दूरी बनाने का नियम नाकाफी है, क्योंकि यह जानलेवा वायरस छींकने या खांसने से करीब 20 फीट की दूरी तक जा सकता है। वैज्ञानिकों ने विभिन्न वातावरण की स्थितियों में खांसने, छींकने और सांस छोड़ने के दौरान निकलने वाली संक्रामक बूंदों के प्रसार का मॉडल तैयार किया है और पाया कि कोरोना वायरस सर्दी और नमी वाले मौसम में तीन गुना तक फैल सकता है।

इन शोधार्थियों में अमेरिका के सांता बारबरा स्थित कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के शोधार्थी भी शामिल हैं। उनके मुताबिक, छींकने या खांसने के दौरान निकली संक्रामक बूंदें विषाणु को 20 फीट की दूरी तक ले जा सकती हैं। लिहाजा, संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मौजूदा छह फीट की सामाजिक दूरी का नियम अपर्याप्त है। पिछले शोध के आधार पर उन्होंने बताया कि छींकने, खांसने और यहां तक कि सामान्य बातचीत से करीब 40,000 बूंदें निकल सकती हैं। यह बूंदें प्रति सेकंड में कुछ मीटर से लेकर कुछ सौ मीटर दूर तक जा सकती हैं। इन पिछले अध्ययन को लेकर वैज्ञानिकों ने कहा कि बूंदों की वायुगतिकी, गर्मी और पर्यावरण के साथ उनके बदलाव की प्रक्रिया वायरस के प्रसार की प्रभावशीलता निर्धारित कर सकती है।

वैज्ञानिकों ने पाया है कि श्वसन बूंदों के माध्यम से कोविड-19 का संचरण मार्ग कम दूरी की बूंदें और लंबी दूरी के एरोसोल कणों में विभाजित है। अध्ययन में कहा गया है कि बड़ी बूंदें गुरुत्वाकर्षण के कारण आमतौर पर किसी चीज पर जम जाती हैं जबकि छोटी बूंदें, एरोसोल कणों को बनाने के लिए तेजी से वाष्पित हो जाती हैं, ये कण वायरस ले जाने में सक्षम होते हैं और घंटों तक हवा में घूमते हैं। उनके विश्लेषण के मुताबिक, मौसम का प्रभाव भी हमेशा एक जैसा नहीं होता है।

Read Also  Corona updates : अगर आपको कोरोना है, चाहते हैं होम आइसोलेशन, तो ऐसे करें संपर्क

शोधकर्ताओं ने बताया कि कम तापमान और उच्च आर्द्रता बूंदों के जरिए होने वाले संचरण में मद्दगार होती है जबकि उच्च तापमान और कम आर्द्रता छोटे एरोसोल-कणों को बनाने में सहायक होता है। वैज्ञानिकों ने अध्ययन में लिखा है कि रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) द्वारा अनुशंसित छह फीट की दूरी वातावरण की कुछ स्थितियों में अपर्याप्त हो सकती है, क्योंकि ठंडे और आर्द्र मौसम में छींकने या खांसने के दौरान निकलने वाली बूंदें छह मीटर (19.7 फीट) दूर तक जा सकती हैं। अध्ययन में बताया गया है कि गर्म और शुष्क मौसम में यह बूंदें तेजी से वाष्पित होकर एरोसोल कणों में बदल जाती हैं जो लंबी दूरी तक संक्रमण फैलाने में सक्षम होते हैं। उसमें कहा गया है कि ये छोटे कण फेफड़ों में अंदर तक प्रविष्ट हो सकते हैं। वैज्ञानिकों ने कहा कि मास्क लगाने से एरोसोल कण के जरिए वायरस का प्रसार होने की संभावना प्रभावी रूप से कम होती है।

Share The News


CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पहुंचे कुम्हारी, छत्तीसगढ़ सोनकर समाज के कार्यक्रम में शामिल होने

By Reporter 5 / December 5, 2022 / 0 Comments
रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज 5 दिसंबर को कुम्हारी में आयोजित छत्तीसगढ़ सोनकर समाज के कार्यक्रम में शामिल होंगे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मुख्यमंत्री सुबह 10 बजे पुलिस ग्राउंड रायपुर से हेलीकॉप्टर द्वारा प्रस्थान कर सुबह 10.20 बजे दुर्ग जिले...

प्रधानमंत्री हुए कोरोना संक्रमित, कुछ तक लोगों से नहीं मिलेंगे

By Reporter 1 / December 6, 2022 / 0 Comments
दुनिया के कई देशों में कोरोना के मामले में कम होते जा रहे हैं। इसके बावजूद अभी भी कुछ देशों में कोरोना लोगों को अपना शिकार बना रहा है। इस बीच ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीस कोरोना संक्रमित हो गए हैं।...

सदानंद शाही होंगे शंकराचार्य यूनिवर्सिटी के कुलपति

By Rakesh Soni / December 6, 2022 / 0 Comments
भिलाई। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में हिन्दी विभाग के प्रोफेसर रहे डॉ. सदानंद शाही भिलाई स्थित श्री शंकराचार्य प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के कुलपति होंगे। राज्यपाल अनुसूईया उइके ने सोमवार को उनकी नियुक्ति के आदेश पर हस्ताक्षर कर दिए। प्रोफेसर शाही को 2017...

आईटी पेशेवर जुड़वा बहनों से एक साथ एक ही शख्स की शादी, दूल्हे के खिलाफ केस दर्ज

By Reporter 1 / December 6, 2022 / 0 Comments
महाराष्ट्र के सोलापुर जिले में मुंबई की जुड़वा बहनों ने एक ही व्यक्ति से शादी कर ली। दोनों बहनें आईटी पेशेवर हैं। जिले के मालशिरस तहसील में यह शादी हुई। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। कुछ लोगों...

तेंदुए ने चौकीदार पर किया हमला चौकीदार ने खदेड़ा तो हो गई मौत

By Reporter 5 / December 4, 2022 / 0 Comments
मध्य प्रदेश के दमोह जिले के सगोनी वन परिक्षेत्र के कुम्हारी सहायक परिक्षेत्र के पड़री गांव में तेंदुए ने चौकीदार प्रताप सिंह ठाकुर पर हमला कर दिया इसी दौरान चौकीदार को बचाने के लिए तेंदुए को खदेड़ने का प्रयास किया,...

रमन सिंह को लेकर कांग्रेस का ट्वीट-अले ले ले गोलू: लिखा-कहां गई हुंकार और ललकार

By Rakesh Soni / December 9, 2022 / 0 Comments
BJP ने कांग्रेसियों को कहा-मूसलचंद रायपुर-छत्तीसगढ़ में चुनावी साल के बीच हुए उपचुनाव में भाजपा हार गई। ट्विटर पर सुबह से ही कई तरह के पोस्ट नेता कर रहे थे। कुछ ऐसे ट्वीट थे जिन पर जीतने वाले दल ने...

स्कूली बच्चों के बैग से मिले कंडोम..सिगरेट और शराब

By Rakesh Soni / December 4, 2022 / 0 Comments
बच्चे जब स्कूल जाते हैं तो उनके बैग में किताबों और कॉपियों के अलावा केवल पेन या पढ़ाई से जुड़ी कोई अन्य सामग्री ही रह जाती है, लेकिन हाल ही में आई कुछ रिपोर्ट्स ने लोगों को हैरान कर दिया...

IT प्रोफेशनल्स जुड़वां बहनों की एक ही लड़के से शादी: दूल्हे पर केस दर्ज

By Rakesh Soni / December 4, 2022 / 0 Comments
सोलापुर-महाराष्ट्र के सोलापुर में जुड़वां बहनों ने एक ही लड़के से शादी कर ली। शुक्रवार को मालशिरस में यह शादी हुई। दोनों बहनें IT इंजीनियर हैं। वो बचपन से ही दोस्तों की तरह रहीं और आगे भी साथ रहना चाहती...

गुड का आयुर्वेद महत्व, जाने क्यों है लाभकारी

By Reporter 5 / December 4, 2022 / 0 Comments
गुड़ केवल एक खाद्य पदार्थ या चीनी का विकल्प भर ही नहीं है बल्कि इसमें सेहत का खजाना छिपा है। यह एंटी टॉक्सिन का भी काम करता है। रात में गुड़ का सेवन करने से शरीर में मौजूद हानिकारक टॉक्सिन...

यूक्रेन ने रूस में घुसकर फिर किया ड्रोन हमला

By Reporter 1 / December 7, 2022 / 0 Comments
पिछले नौ महीने से ज्यादा समय से यूक्रेन के साथ चल रहे युद्ध में रूस की हवाई रक्षा की पोल खुल गई है। यूक्रेन ने लगातार दूसरे दिन रूस में घुसकर उसके एक और वायुसेना अड्डे को निशाना बनाया। मंगलवार...