“Ekhabri विशेष- बस्तर दशहरा और लोक रस्मो की कड़ी (सीरीज 9)” बाजेगाजे,गीत व नाच के साथ घुमाया जाता है माता का रथ



Ekhabri धर्मदर्शन,पूनम ऋतु सेन। एक और जहां पूरा विश्व, दशहरे के अवसर पर रावण का अंत और भगवान राम के अयोध्या वापसी से संबंधित पर्व मनाता है वहीं बस्तर दशहरा अपनी अनोखी मान्यताओं के कारण विश्व प्रसिद्ध हो चुका है। यहां मां दुर्गा द्वारा महिषासुर के वध के उत्सव पर दंतेवाड़ा स्थित दंतेश्वरी माता के लिए समर्पित, बस्तर दशहरा मनाया जाता है। 75 दिनों तक चलने वाले इस पर्व में आदिवासी अंचल के सामाजिक समरसता की बुनियादी और मजबूत व्यवस्था को देखा जा सकता है।

“Ekhabri विशेष बस्तर दशहरा” के इस सीरीज में हमने कल जोगी बिठाई जैसी परंपरा के बारे में बात की थी। इसी कड़ी में अगला पड़ाव रथ परिक्रमा का है चलिए आज इस पोस्ट में इसी प्रथा के बारे में जानते हैं-

रथ परिक्रमा

जोगी बिठाई के दूसरे दिन से ही रथ परिक्रमा शुरू हो जाती है जो लगातार 6 दिनों तक चलती है। इसका प्रारम्भ अश्विन शुक्ल द्वितीया से हो जाता है जो लगातार 5 दिनों तक अश्विन शुक्ल सप्तमी तक चलता है। इन दिनों रथ परिक्रमा करायी जाती है। चार पहिए वाला यह रथ पुष्प सज्जा प्रधान होने के कारण फूलरथ कहलाता है।



क्या होता है इस रस्म में

फूलरथ पर आरुढ़ होने वाले राजा के सिर पर फूलों की पगड़ी बँधी होती थी परंतु वर्तमान में लोकतंत्र के बदले स्वरूप के बाद राजा रथ पर अब केवल देवी दंतेश्वरी का छत्र ही आरुढ़ रहता है जिसके साथ में अब केवल देवी का पुजारी रहता है। रथ प्रतिदिन शाम को एक निश्चित मार्ग का परिक्रमा करता है और राजमहल के सिंहद्वार के सामने खड़ा हो जाता है।

पहले 12 पहियों वाला एक विशाल रथ किसी तरह चलाया जाता था परंतु चलाने में असुविधा होने के कारण एक रथ को आठ और चार पहियों वाले दो रथों में विभाजित कर दिया गया। क्योंकि जनश्रुति है कि राजा पुरुषोत्तम देव को जगन्नाथ जी ने बारह पहियों वाले रथ का वरदान दिया था।

दशहरे की भीड़ में गाँव-गाँव से आमंत्रित देवी-देवताओं के साज-बाज आज भी देखने को मिल जाते हैं। उनके छत्र डंगइयाँ घंटे, बैरक घंटे, शंख तोड़ियाँ आदि सब अपनी अपनी जगह ठीक ठाक हैं, आज भी लोग श्रद्धा भक्ति से प्रेरित होकर रथों की रस्सियाँ खींचते हैं। रथ के साथ-साथ नाच गाने भी चलते रहते हैं। मुंडा लोगों के मुंडा बाजे बज रहे होते हैं। उनका ‘मार’ (लोक-नृत्य) धमाधम चल रहा होता है। नाइक, पाइक, माझी एवं कोटवार आदि तो आज भी चलते है, पर पहले सैदार, बैदार, पड़ियार और राजभवन के नौकर चाकर भी अपने अपने राजसी पहनावे में चलते थे।


पहले रथ प्रतिदिन सीरासार चौक से ठीक समय पर चलकर शाम को एक निश्चित समय पर सिंहद्वार के सामने पहुँच जाता है। इस रथयात्रा के दौरान हल्बा सैनिकों का वर्चस्व रहता था। अश्विन शुक्ल 7 को चार पहियों वाले रथ की समापन परिक्रमा चलती है। तत्पश्चात दूसरे दिन दुर्गाष्टमी मनाई जाती है। दुर्गाष्टमी के अंतर्गत निशा जात्रा का कार्यक्रम होता है। निशा जात्रा का जलूस नगर के  इतवारी बाज़ार से लगे पूजा मंडप तक पहुँचता है।

बस्तर दशहरा और लोक रस्मो की इस कड़ी में आगामी रस्मों के बारे में पुनः विस्तार से जानेंगे, ऐसे ही छत्तीसगढ़ के अन्य रोचक तथ्यों के बारे में जानने के लिए Ekhabri.com से जुड़े रहे।

Share The News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 





कुम्हारी: मोबाइल दुकान में बंदूक दिखाकर की गयी लूटपाट, व्यापारी वर्ग में भय का माहौल बना

By Reporter 5 / October 24, 2021 / 0 Comments
कुम्हारी, पूनम ऋतु सेन। छत्तीसगढ़ में चोरी की वारदातें थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं, आज शाम को कुम्हारी क्षेत्र में लूटपाट की वारदात घटित हुई है। जानकारी के अनुसार यह घटना करीब 7 बजे स्टेशन चौक कुम्हारी में...

Ekhabri धर्मदर्शन विशेष: करवाचौथ व्रत खोलने में चाँद ने व्रतहारियों को सताया, कपल्स ने शेयर की अपनी स्टोरीज

By Reporter 5 / October 24, 2021 / 0 Comments
पूनम ऋतु सेन, ekhabri विशेष। आस्था, श्रद्धा, परम्परा, विश्वास व सौभाग्य से जुड़ा महापर्व करवाचौथ रविवार को मनाया गया। हिन्दू धर्म का यह पावन पर्व कार्तिक महीने का पहला त्यौहार है, इस दिन महिलाएं अपने पतियों की लंबी उम्र की...

प्रधानमंत्री आवास योजना की दूसरी किश्त न मिलने और कर्ज में डूबे रहने के कारण युवक ने लगायी फाँसी

By Reporter 5 / October 24, 2021 / 0 Comments
रायपुर, पूनम ऋतु सेन।विगत बुधवार प्रधानमंत्री आवास योजना की दूसरी किश्त न मिल पाने और कर्ज की रकम ना चुका पाने के कारण एक व्यक्ति ने जंगल में जाकर फांसी लगा ली। यह घटना गुरुर विकासखंड के ग्राम पंचायत कोचवाही...

इस वर्ष बन रहा है करवाचौथ में विशेष संयोग, मिलेगा सूर्यदेव से दीर्घायु का आशीर्वाद, जानें कब है शुभ मुहूर्त

By Reporter 5 / October 23, 2021 / 0 Comments
पूनम ऋतु सेन, EKhabri धर्मदर्शन। हिंदू धर्म में अनेकों व्रत और त्यौहार मनाए जाते हैं। इन्हीं में से एक बेहद ही पावन व्रत है करवा चौथ का व्रत। इस व्रत को सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र की कामना...

एसीबी के शिकंजे में चार भ्रष्टाचारी: बेमेतरा के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर, सूरजपुर में स्कूल प्रिंसिपल और दुर्ग में पटवारी सहित दो किया गिरफ्तार

By Rakesh Soni / October 26, 2021 / 0 Comments
रायपुर/दुर्ग/बेमेतरा। छत्तीसगढ़ में सोमवार को कई जिलों में एसीबी ने कार्रवाई की। इस दौरान बेमेतरा में पदस्थ मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर दीनदलयाल जायसवाल सहित सूरजपुर में स्कूल प्रिंसिपल और दुर्ग में पटवारी व उसके एक सहयोगी को...

ससुर ने बेटी की शादी से पहले मांगी भावी दामाद के वीर्य की जांच रिपोर्ट

By Reporter 1 / October 27, 2021 / 0 Comments
शादी-विवाह से पहले आमतौर पर वर-वधू की कुंडली का मिलाने की परंपरा रही है। मगर अब कई लोग थैलेसीमिया, एचआइवी, हेपेटाइटिस बी, हेपेटाइटिस सी की जांच भी करा रहे हैं। बंगाल की राजधानी कोलकाता में एक व्‍यक्ति तो इससे भी...

WhatsApp स्टेटस के लिए यह नया फीचर, आपसे गलती होने पर आएगा काम

By Reporter 1 / October 25, 2021 / 0 Comments
वाटसएप ने फिर अपने प्लेटफॉर्म पर नया फीचर जोड़ा है। यह नया मैसेजिंग ऐप तस्वीरें एडिट करने के लिए Undo और Redo बटन पर काम करने वाला है। कंपनी WhatsApp Status  के लिए एक नया Undo बटन ला रही है।...

प्याज से फैल रही नई बीमारी, 650 से ज्यादा लोग संक्रमित

By Reporter 1 / October 27, 2021 / 0 Comments
दुनियाभर के लोग कोरोना से परेशान थे। कोरोनारोधी वैक्सीन लगने से लोगों को कुछ राहत मिली है। इस बीच एक नई बीमारी ने दस्तक दी है। इस बीमारी का संबंध साल्मोनेलोसिस बैक्टीरिया से है, जो संभवतः खराब और कच्चा प्याज...

कोरोनारोधी रूस की वैक्सीन स्पूतनिक-वी HIV का खतरा, लगी रोक

By Reporter 1 / October 25, 2021 / 0 Comments
रूस की कोरोनारोधी वैक्‍सीन स्पूतनिक-वी के इसतेमाल से HIV का खतरा सामने आया है। इसके बाद नामीबिया ने स्पूतनिक-वी के इस्तेमाल पर रोक लगाने का फैसला लिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी है। गौर हो कि कुछ समय...

आज का राशिफल

By Reporter 1 / October 22, 2021 / 0 Comments
मेष राशि : आज का दिन आपका परोपकार के कार्य में व्यतीत होगा। आज आप कुछ धार्मिक व सामाजिक कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेंगे, जिसका आपको आगे चलकर लाभ भी अवश्य मिलेगा, अगर आप किसी व्यापार को करते हैं, तो...