“Ekhabri विशेष- बस्तर दशहरा और लोक रस्मो की कड़ी (सीरीज 9)” बाजेगाजे,गीत व नाच के साथ घुमाया जाता है माता का रथ



Ekhabri धर्मदर्शन,पूनम ऋतु सेन। एक और जहां पूरा विश्व, दशहरे के अवसर पर रावण का अंत और भगवान राम के अयोध्या वापसी से संबंधित पर्व मनाता है वहीं बस्तर दशहरा अपनी अनोखी मान्यताओं के कारण विश्व प्रसिद्ध हो चुका है। यहां मां दुर्गा द्वारा महिषासुर के वध के उत्सव पर दंतेवाड़ा स्थित दंतेश्वरी माता के लिए समर्पित, बस्तर दशहरा मनाया जाता है। 75 दिनों तक चलने वाले इस पर्व में आदिवासी अंचल के सामाजिक समरसता की बुनियादी और मजबूत व्यवस्था को देखा जा सकता है।

“Ekhabri विशेष बस्तर दशहरा” के इस सीरीज में हमने कल जोगी बिठाई जैसी परंपरा के बारे में बात की थी। इसी कड़ी में अगला पड़ाव रथ परिक्रमा का है चलिए आज इस पोस्ट में इसी प्रथा के बारे में जानते हैं-

रथ परिक्रमा

जोगी बिठाई के दूसरे दिन से ही रथ परिक्रमा शुरू हो जाती है जो लगातार 6 दिनों तक चलती है। इसका प्रारम्भ अश्विन शुक्ल द्वितीया से हो जाता है जो लगातार 5 दिनों तक अश्विन शुक्ल सप्तमी तक चलता है। इन दिनों रथ परिक्रमा करायी जाती है। चार पहिए वाला यह रथ पुष्प सज्जा प्रधान होने के कारण फूलरथ कहलाता है।



क्या होता है इस रस्म में

फूलरथ पर आरुढ़ होने वाले राजा के सिर पर फूलों की पगड़ी बँधी होती थी परंतु वर्तमान में लोकतंत्र के बदले स्वरूप के बाद राजा रथ पर अब केवल देवी दंतेश्वरी का छत्र ही आरुढ़ रहता है जिसके साथ में अब केवल देवी का पुजारी रहता है। रथ प्रतिदिन शाम को एक निश्चित मार्ग का परिक्रमा करता है और राजमहल के सिंहद्वार के सामने खड़ा हो जाता है।

पहले 12 पहियों वाला एक विशाल रथ किसी तरह चलाया जाता था परंतु चलाने में असुविधा होने के कारण एक रथ को आठ और चार पहियों वाले दो रथों में विभाजित कर दिया गया। क्योंकि जनश्रुति है कि राजा पुरुषोत्तम देव को जगन्नाथ जी ने बारह पहियों वाले रथ का वरदान दिया था।

दशहरे की भीड़ में गाँव-गाँव से आमंत्रित देवी-देवताओं के साज-बाज आज भी देखने को मिल जाते हैं। उनके छत्र डंगइयाँ घंटे, बैरक घंटे, शंख तोड़ियाँ आदि सब अपनी अपनी जगह ठीक ठाक हैं, आज भी लोग श्रद्धा भक्ति से प्रेरित होकर रथों की रस्सियाँ खींचते हैं। रथ के साथ-साथ नाच गाने भी चलते रहते हैं। मुंडा लोगों के मुंडा बाजे बज रहे होते हैं। उनका ‘मार’ (लोक-नृत्य) धमाधम चल रहा होता है। नाइक, पाइक, माझी एवं कोटवार आदि तो आज भी चलते है, पर पहले सैदार, बैदार, पड़ियार और राजभवन के नौकर चाकर भी अपने अपने राजसी पहनावे में चलते थे।


पहले रथ प्रतिदिन सीरासार चौक से ठीक समय पर चलकर शाम को एक निश्चित समय पर सिंहद्वार के सामने पहुँच जाता है। इस रथयात्रा के दौरान हल्बा सैनिकों का वर्चस्व रहता था। अश्विन शुक्ल 7 को चार पहियों वाले रथ की समापन परिक्रमा चलती है। तत्पश्चात दूसरे दिन दुर्गाष्टमी मनाई जाती है। दुर्गाष्टमी के अंतर्गत निशा जात्रा का कार्यक्रम होता है। निशा जात्रा का जलूस नगर के  इतवारी बाज़ार से लगे पूजा मंडप तक पहुँचता है।

बस्तर दशहरा और लोक रस्मो की इस कड़ी में आगामी रस्मों के बारे में पुनः विस्तार से जानेंगे, ऐसे ही छत्तीसगढ़ के अन्य रोचक तथ्यों के बारे में जानने के लिए Ekhabri.com से जुड़े रहे।

Share The News


CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


अरुण साव को बनाया भाजपा प्रदेश अध्यक्ष

By Rakesh Soni / August 9, 2022 / 0 Comments
रायपुर। भाजपा ने बड़ा परिवर्तन किया है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बिलासपुर के सांसद अरूण साव को छत्तीसगढ़ का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। इस संबंध में राष्ट्रीय महासचिव अरूण सिंह ने आदेश जारी किया है। अरुण...

Ekhabri विशेष: 11 अगस्त को भद्रा समाप्त होने के बाद बांधी जाएगी राखी, 12 को दिनभर बांध सकते हैं राखी

By Reporter 5 / August 8, 2022 / 0 Comments
रायपुर। राखी बंधने को लेकर कई तरह की बात सामने आ रही है। पंचांग अलग अलग होने के कारण पंडित भी अलग-अलग तर्क देरहे हैं। कुछ 11 तारीख को रक्षाबंधन को सही बता रहे हैं तो कुछ भद्रा होने के...

बिजली बिल हाफ पर अब लाभ की पर्ची:बिल के साथ स्लिप देकर बताया जा रहा कितनी छूट दी गई

By Rakesh Soni / August 7, 2022 / 0 Comments
  रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी ने बिजली बिल हाफ योजना पर नया दांव खेला है। बिजली कंपनी जुलाई महीने के बिल के साथ एक अलग पर्ची भी दे रही है। इसमें बताया जा रहा है कि बिजली बिल...

जानिए क्यों छत्तीसगढ़ में बहनें देती हैं भाइयों को मरने का श्राप

By Rakesh Soni / August 8, 2022 / 0 Comments
रायपुर। भारत अपने अलग-अलग त्योहरों और रीति रिवाजों के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है। इन्हीं त्योहारों में शामिल है रक्षाबंधन जो सावन महीने की पूर्णिमा को मनाया जाता है। यह त्योहार भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को दर्शाता है।...

शादी के 54 साल बाद बुजुर्ग दंपती के हुई संतान

By Reporter 1 / August 10, 2022 / 0 Comments
राजस्थान के अलवर में शादी के 54 साल बाद एक बुुजुर्ग दंपती के संतान हुई है। महिला की उम्र 70 और पुरुष की उम्र 75 वर्ष है। बुजुर्ग दंपती के संतान इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आइवीएफ) तकनीक के माध्यम से हुई...

Ekhabri खास खबर: फलीभूत होने लगा ‘मेक इन इंडिया’ का सपना

By Reporter 5 / August 10, 2022 / 0 Comments
अशोक मधुप(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज से आठ वर्ष पूर्व 2014 में देखा 'मेक इन इंडिया' का सपना अब फलीभूत होने लगा है। केंद्र सरकार द्वारा इसके लिए की गई पहल असर दिखाने लगी है।कभी जिन...

सेबी ने 28 कंपनियों को दी 45 हजार करोड़ के आईपीओ लाने की मंजूरी

By Reporter 1 / August 8, 2022 / 0 Comments
बाजार नियामक सेबी ने वित्त वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही यानी अप्रैल से जुलाई के दौरान 28 दिग्गज कंपनियों को आईपीओ लाने की मंजूरी दी है। इन आईपीओ के जरिये करीब 45 हजार करोड़ रुपये जुटाने की योजना है। चालू...

ट्रेन से टकराई अल्टो कार एक ही परिवार के 3 की मौत

By Rakesh Soni / August 9, 2022 / 0 Comments
  पिता-बेटी-बहू ने तोड़ा दम, 5 घायल; मंदिर से दर्शन कर लौट रहा था परिवार रायपुर/बलौदाबाजार। बलौदाबाजार में सोमवार देर रात हुए सड़क हादसे में दो लोगों की मौत हो गई थी। अब मंगलवार की सुबह इलाज के दौरान इस...

संगीत में है शक्ति, बालको मेडीकल सेंटर, नया रायपुर में मरीजों का प्रोत्साहन बढ़ाने आए पंजाबी पॉप सिंगर सुखबीर सिंह

By Reporter 5 / August 8, 2022 / 0 Comments
रायपुर। संगीत में बहुत शक्ति होती है। यह मन को खुश करने में कारगर तो है ही, वहीं मरीजों को भी जल्दी स्वस्थ करने का एक अच्छा माध्यम बन गया है। इसका उदाहरण देखने को मिला बालको मेडिकल सेंटर में...

आज का राशिफल

By Reporter 1 / August 12, 2022 / 0 Comments
मेष राशि : आज का दिन आपके लिए उत्तम रूप से फलदायक रहेगा। आपके कुछ रुके हुए कार्य पूरे होने से आपके मन में संतुष्टि बनी रहेगी। यदि आप किसी अचल संपत्ति का प्लान बना रहे थे, तो आपकी वह...