मायावती ने बसपा के सात बागी विधायकों को दिखाया बाहर की रास्ता

राज्यसभा चुनाव में बगावत करने वाले सात विधायकों को बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख मायावती ने पार्टी से निलंबित कर दिया है। विधायक दल के नेता लालजी वर्मा ने इस संबंध में अपनी रिपोर्ट मायावती को सौंप दी थी। साथ ही मायावती ने कहा कि एमएलसी के चुनाव में बसपा जैसे को तैसा का जवाब देने के लिए पूरी ताकत लगा देगी। भाजपा को वोट देना पड़ेगा तो भी देंगे।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि हम दूसरे दल से नहीं मिले हैं। हम पर लगे आरोप गलत हैं। उन्‍होंने  कहा कि समाजवादी पार्टी पर से 1995 गेस्ट हाउस कांड का मुकदमा वापस लेना गलती थी। चुनाव प्रचार के बजाय अखिलेश यादव मुकदमा वापस कराने में लगे थे। 2003 में मुलायम ने बसपा तोड़ी उनकी बुरी गति हुई, अब अखिलेश ने यह काम किया है, उनकी बुरी गति होगी। सपा में परिवार के अंदर लड़ाई थी, जिसकी वजह से गठबंधन कामयाब नहीं हुआ। सपा से गठबंधन का हमारा फैसला गलत था।

मायावती ने बागी विधायकों ने बारे में कहा कि सभी सात विधायक निलंबित किए गए हैं। उनकी सदस्यता रद्द की जाएगी। ये षड्यंत्र कामयाब नहीं होगा। एमएलसी के चुनाव में सपा को जवाब देंगे। सपा को हराने के लिए बसपा पूरी ताकत लगा देगी। विधायकों को भाजपा समेत किसी भी विरोधी पार्टी के उम्मीदवार को वोट क्यों ना देना पड़ जाए।

ये हैं बसपा के सात बागी विधायक
असलम राइनी ( भिनगा-श्रावस्ती)
असलम अली (ढोलाना-हापुड़)
मुजतबा सिद्दीकी (प्रतापपुर-इलाहाबाद)
हाकिम लाल बिंद (हांडिया- प्रयागराज)
हरगोविंद भार्गव (सिधौली-सीतापुर)
सुषमा पटेल( मुंगरा बादशाहपुर)
वंदना सिंह -( सगड़ी-आजमगढ़)

Share The News
Read Also  Fake Video शेयर करने पर दिग्विजय सहित 11 पर एफआईआर

Get latest news on Whatsapp or Telegram.