विशेष स्मृति लेख: असाधारण जोगी- दिवाकर मुक्तिबोध

अजीत जोगी पर क्या लिखूँ ? करीब दस साल पूर्व उनकी राजनीति व उनके व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं पर आलोचनात्मक दृष्टि डाली थी। कई पन्नों का यह लेख ब्लाग में पड़ा रहा, बाद में कुछ पोर्टलों पर नमूदार हुआ और दिल्ली की पत्रिका ‘दुनिया इन दिनों में ‘ कव्हर स्टोरी के रूप में प्रकाशित भी हुआ। चूँकि इस आलेख में वर्ष 2010 तक की जोगी-यात्रा का समावेश है लिहाजा इसी वर्ष यानी 2020 में समाप्त होने वाले दशक में उनकी राजनीति पर कुछ और बातें की जा सकती हैं।

अजीत जोगी तीस साल और ज़िंदा रहने वाले थे। ऐसी उनकी जिजीविषा थी।अपनी नई पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ के गठन के पूर्व , 15-16 फ़रवरी 2016 को खरोरा में आयोजित सर्वधर्म सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था- “जो लोग मुझे बुज़ुर्ग , बेकार व अशक्त समझते हैं , उन्हें मैं बता देना चाहता हूँ कि छत्तीसगढ के हितों की रक्षा के लिए मैं अगले तीस सालों तक ज़िंदा रहूँगा ।” जोगी उस समय 71 वर्ष के थे। उनका यह कथन बताता है कि पकी हुई उम्र में भी वे युवोचित आत्मविश्वास व दृढ़ इच्छा शक्ति से लबरेज़ थे। और यकीनन इसी जीवन-शक्ति के चलते शारीरिक अशक्तता के बावजूद वे छत्तीसगढ की राजनीति में धूमकेतु की तरह छाए रहे। यह कल्पना से परे है कि वर्ष 2004 से व्हील चेयर पर बैठा व्यक्ति जिसके शरीर का निचला हिस्सा पूर्णत: निर्जीव हो गया हो, वह न केवल राजनीति की मुख्य धारा में बना रहा वरन उसे अपने इशारे पर नचाता भी रहा। ग़ज़ब के मनोबल वाले इस संघर्षशील नेता ने अपनी कतिपय कमज़ोरियों पर क़ाबू पाया होता और परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढाला होता तो छत्तीसगढ में कांग्रेस का राज टिका रहता व भाजपा को पनपने व लंबे समय तक सत्ता पर क़ाबिज़ रहने का मौका न मिलता। आज छ्त्तीसगढ़ में कांग्रेस की तस्वीर बदली है तो इसका बहुत कुछ श्रेय अजीत जोगी को दिया जाना चाहिए। क्योंकि यदि वे ग़लतियाँ नहीं करते तो इस पार्टी में नया नेतृत्व नहीं उभरता और प्रदेश कांग्रेस को संजीवनी नहीं मिलती।

Read Also  धर्म गुरुओं पर अभद्र टिप्पणी, जैन समाज मे आक्रोश

इसमें क्या शक कि आला दर्जे के इस ज़हीन राजनेता ने राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री के रूप में अपनी विशिष्ट पहिचान बनाई जो अमिट है। नए छत्तीसगढ में नए सिरे से विकास की नींव का पहिला पत्थर उन्होने ही रखा जिस पर आज कई मंज़िलें तन गई हैं। गरीब आदिवासियों , हरिजनों , मज़दूरों किसानों व खेतिहर श्रमिकों की उन्होंने सबसे ज्यादा चिंता की और सरकार की विकास योजनाओं में उन्हें प्राथमिकता पर रखा। एक व्यक्ति के रूप में जोगी की विद्वत्ता , दूरदर्शिता, विकासपरक सोच व दृढ़ता का हर कोई क़ायल रहा। सरकार कैसे चलाई जाती है, नौकरशाही को कैसे साधा जाता है, जनकल्याणकारी कार्यों में उसे कैसे गुंथा जाता है व इसके लिए दबाव व नेतृत्व का भय किस तरह तारी किया जाता है , यह केवल जोगी ही कर सकते थे और वही उन्होंने किया लेकिन ऐसा करते हुए धीरे-धीरे उनकी छवि तानाशाह की बनती चली गई। सत्ता का अहंकार हावी होते गया और विभिन्न राजनीतिक कारणों से 2003 के पहिले विधान सभा चुनाव में जब सत्ता कांग्रेस के हाथ से निकल गई और वह अगले 15 वर्षों तक राज्य में सरकार नहीं बना सकी तो इसके लिए मुख्य: अजीत जोगी व उनकी राजनीति को ज़िम्मेदार ठहराया गया और वे थे भी। यदि चुनाव के पूर्व विद्दाचरण शुक्ल कांग्रेस से अलग न हुए होते व अलग पार्टी के बेनर में चुनाव न लड़ते तो भारतीय जनता पार्टी सत्ता में न आ पाती। बस यही से भाजपा के उत्थान व कांग्रेस के पतन की शुरूआत हुई। पन्द्रह वर्षों तक चला यह चक्र 2018 के चुनाव में विपरीत दिशा में घूमा हालाँकि इस बार भी जोगी ने पहिए को रोकने व अपनी तरफ मोड़ने की कम कोशिश नहीं की। किंतु सत्ता की चाबी हाथ में लेने का उनका ख़्वाब , दुबारा मुख्यमंत्री बनने का ख्वाब , अंतत: ख़्वाब ही रहा।

छत्तीसगढ में शुक्ल बंधुओं , श्यामाचरण-विद्दाचरण व मोतीलाल वोरा के युग के रहते रहते ही अजीत जोगी प्रदेश के सबसे बडे नेता बन चुके थे। आम बोलचाल में शुक्ल बंधुओं व वोरा को बाहरी माना जाता है मगर जोगी के साथ ऐसा नहीं था। वे ख़ालिस छत्तीसगढ की पैदावार थे-ठेठ छत्तीसगढिया। वे इसी ज़मीन के थे। ऐसा छत्तीसगढिया नेता जिसकी लोकप्रियता बेजोड़ थी। जब वे अपनी इसी देहाती भाषा में भाषण देते थे तो शहरी व ग्रामीण जनता मंत्रमुग्ध हो जाया करती थी। राज्य में आज भी कोई ऐसा नेता नहीं है जो उनकी जैसी शानदार वक्तृत्व-कला से लोगों को मोहित करने का सामर्थ्य रखता हो। आईएएस, आईपीएस , इंजीनियर , प्रोफ़ेसर , राजनीतिक टिप्पणीकार व लेखक के रूप में अपनी ज़िंदगी में अलग रंग भरने वाले जोगी ने जब राजनीति में क़दम रखा तो उसमें भी सुनहरा रंग भरा। वर्ष 2000 में छत्तीसगढ के नए राज्य के रूप में अस्तित्व में आने के बाद महत्वपूर्ण घटनाएँ थी शुक्ल युग की समाप्ति व जोगी युग का आग़ाज़ । हालाँकि कांग्रेस की सत्ता की दृष्टि से इस युग का भी बहुत जल्द अवसान हो गया। दरअसल नए प्रदेश के पहिले मुख्यमंत्री के ओहदे तक पहुँचा यह लोकप्रिय नेता समय की नब्ज़ को नही पकड़ सका व एक ऐसी राह पर चल पड़ा जहाँ से बदनामी भी साए की तरह चिपक गई। लेकिन यह आश्चर्यजनक है कि इसके बावजूद उनकी जन-स्वीकार्यता में कोई कमी नहीं आई। मरवाही से 2018 का अपना अंतिम विधान सभा चुनाव उन्होंने रिकार्ड 74 हजार से अधिक मतों से जीता।

Read Also  विश्व संयुक्त परिवार दिवस: तीन पीढ़ी एक साईकिल पर

अजीत जोगी विध्वंसक राजनीति के पोषक रहे है। तोड़फोड़ में माहिर । विवादों से उनका गहरा नाता रहा। अपने राजनीतिक इरादों को पूरा करने के लिए हदें लाँघने में उन्होंने कोई संकोच नहीं किया। अंतागढ टेपकांड इसका एक बडा उदाहरण है। दरअसल जब घटनाओं के नतीजे विपरीत जाने लगते हैं तो सूत्रों पर आपकी पकड़ ढीली पड़ने लगती हैं और आप ग़लतियों पर ग़लतियाँ करते चले जाते हैं। जोगी से ग़लतियाँ यह हुई कि बदलते संदर्भों में वे कांग्रेस की आंतरिक राजनीति को परखने व तदानुसार क़दम उठाने में विफल रहे। जब उनके विधायक बेटे को प्रदेश कांग्रेस ने बाहर का रास्ता दिखाया तो उन्होंने धैर्य का परिचय नहीं दिया जबकि वे अच्छी तरह जानते थे कि विशालकाय पेड़ से टूटने के बाद टहनी की क्या औक़ात रहती है हालाँकि उन्होंने कठोर मेहनत से यह भी सिद्ध किया कि टूटी हुई टहनी में भी नई कोंपले फूट सकती है। इसकी मिसाल है उनके नेतृत्व में गठित जनता कांग्रेस छत्तीसगढ , जिसने अपनी स्थापना केवल ढाई साल में अपने पाँच विधायक विधान सभा में पहुंचा दिए। एक नई नवेली राजनीतिक पार्टी के लिए यह उपलब्धि मामूली नहीं है।

अजीत जोगी असाधारण राजनेता थे। राज्य को उनकी ज़रूरत थी। यदि वे कुछ ठहरकर , सोच समझकर फैसले लेते, सभी के साथ सामंजस्य स्थापित करते और अपने अहम को परे रखते तो कांग्रेस की प्रादेशिक अथवा राष्ट्रीय राजनीति में महत्वपूर्ण स्थान पर बने रहते । वैसे भी वे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी में दीर्घ अवधि तक विभिन्न आला पदों पर क़ाबिज़ रहे हैं। वे ज़िंदगी के तीस साल और चाहते थे लेकिन सिर्फ तीन साल ही हासिल कर सके। पर इस अल्प अवधि में भी उन्होंने जता दिया कि प्रदेश की राजनीति में उनकी उपस्थिति कितनी जरूरी थी। वे ऐसा नेता रहे जिन्हें जनता ने उनकी तमाम कमियों के बावजूद तहेदिल से स्वीकार किया और सिर -माथे पर बिठाया। ऐसा स्नेह बिरलों को ही नसीब होता है। अजीत जोगी इस मायने में बहुत भाग्यशाली रहे।

Read Also  हिन्दी दिवस विशेष: अ अनपढ़ से लेकर ज्ञ ज्ञानी तक का सफर
-दिवाकर मुक्तिबोध (वरिष्ठ पत्रकार, लेखक)
Share The News




CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


1185191 sagar

छत्तीसगढ़ सरकार ने तीन आईएएस अधिकारियों का किया ट्रांसफर

By Reporter 5 / June 7, 2024 / 0 Comments
छत्तीसगढ़ सरकार ने तीन आईएएस अधिकारियों का किया ट्रांसफर   रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार ने आज तीन आईएएस अधिकारियों का ट्रांसफर किया है। इनमें से कांकेर कलेक्टर अभिजीत सिंह को वापिस बुलाकर मंत्रालय में गृह और जेल विभाग का स्पेशल सिकरेट्री...
20240610 012740

Midnight Big Breaking News: भारत ने पाकिस्तान को 6 रन से हराया, गेंदबाजों का शानदार प्रदर्शन

By Reporter 5 / June 10, 2024 / 0 Comments
न्यूयॉर्क के नासाउ काउंटी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में भारत और पाकिस्तान के बीच हाईवोल्टेज मुकाबला खेला गया। पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारतीय टीम 119 रन पर...
kishori

स्मृति ईरानी को हराने वाले किशोरी लाल के नॉमिनेशन फॉर्म में बड़ी गलती

By Reporter 1 / June 11, 2024 / 0 Comments
उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट से स्मृति ईरानी को हरा कर चुनाव जीतने वाले कांग्रेस सांसद किशोरी लाल शर्मा के नॉमिनेशन फॉर्म के एफिडेविट में बड़ी गलती हुई है। उनके नॉमिनेशन फॉर्म में लोकसभा चुनाव 18वीं के स्थान पर...
bolywood

राहुल गांधी के सपोर्ट में रहे ये बॉलीवुड सितारे

By Reporter 1 / June 6, 2024 / 0 Comments
लोकसभा चुनाव 2024 में कांग्रेस ने अच्छा कमबैक किया है। कांग्रेस 99 सीटें जीतकर दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। इस जीत का श्रेय राहुल गांधी को दिया जा रहा है, जिन्होंने पदयात्रा की, भारत जोड़ो यात्रा के दौरान...
IMG 20240607 WA0006

बीजेपी सांसद कंगना को थप्पड़ मारने वाले CISF महिला कांस्टेबल Gold Medal से होगी सम्मानित! हुई ईनामों की बौछार

By Sub Editor / June 7, 2024 / 0 Comments
  शहीद भगत सिंह इंटरनैशनल एयरपोर्ट चंडीगढ़ पर मंडी से भाजपा सांसद कंगना रनौत को सी.आई.एस.एफ. की महिला कांस्टेबल ने चैंकिंग के दौरान थप्पड़ मार दिया। वहीं अब सोशल मीडिया पर कंगना को थप्पड़ जड़ने वाली महिला कांस्टेबल को कोई...
IMG 20240608 WA0006

छत्तीसगढ़ के तीन IAS अधिकारियों के बदले प्रभार…देखे लिस्ट

By Sub Editor / June 8, 2024 / 0 Comments
  तीन आईएएस अधिकारियों का ट्रांसफर किया है। इनमें से कांकेर कलेक्टर अभिजीत सिंह को सरकार ने वापिस बुला लिया है। उन्हें मंत्रालय में गृह और जेल विभाग का स्पेशल सिकरेट्री बनाया गया है। अभिजीत पहले भी गृह विभाग में...
IMG 20240608 WA0008

जैतखाम को नुकसान पहुंचाने से आक्रोशित हुआ सतनामी समाज, इस तारीख को करेंगे आक्रोश रैली…

By Sub Editor / June 8, 2024 / 0 Comments
  छत्तीसगढ़ में मौजूद गिरोधपुरी धाम से लगे अमर गुफा में स्थापित जोड़ा जैतखाम को आसामाजिक तत्वों द्वारा आरी से काटने का मामला सामने आया हैं। इसे लेकर पुलिस कार्रवाई से नाखुश सतनामी समाज के लोगों ने सभी जिलों में...

कौन-कौन है बलौदाबाजार अग्नि कांड का दोषी, प्रशासन ने जारी की सूची, नुकसान का आंकलन भी शुरू, वसूली कर सकती है सरकार

By Sub Editor / June 11, 2024 / 0 Comments
  बलौदाबाजार में उपद्रव करने वालों की पहचान कर ली गई है। प्रशासन की तरफ से उपद्रव करने वाले संगठनों के पदाधिकारियों का नाम भी जारी किया है। आगजनी में वहां बड़ा नुकसान हुआ है। प्रशासन की तरफ से जारी...
IMG 20240606 WA0007

एक हजार रूपये नही दिये तो कर दी दोस्त की हत्या, पुलिस ने किया गिरफ्तार

By Sub Editor / June 6, 2024 / 0 Comments
  सरगुजा के लखनपुर थानाक्षेत्र में हुई युवक की हत्या के मामले में पुलिस ने मृतक के दोस्त को गिरफ्तार किया है। आरोपी ने एक हजार रुपए नहीं देने पर अपने दोस्त की हत्या कर दी। किसी को शक ना...
nitish

नीतीश ने 4 कैबिनेट मंत्री पद समेत रखी कई बड़ी मांग

By Reporter 1 / June 6, 2024 / 0 Comments
लोकसभा चुनाव के नतीजों ने सबको चौका दिया है। देश की जनता ने पक्ष और विपक्ष दोनों को खुश किया। चुनाव में 12 सीटें जीतने के बाद और भाजपा के अकेले बहुमत से चूकने के बाद सत्तारूढ़ एनडीए के मजबूत...

Leave a Comment