Corona पर रिसर्च करने के लिए 14 वर्षीय अनिका को मिला लाखों का ईनाम

भारतीय मूल की 14 वर्षीय अनिका चेब्रोलू ने अमेरिका में कोरोना से निजात दिलाने में मददगार इलाज की खोज की है। यह खोज कोविड-19 का एक संभावित उपचार प्रदान कर सकती है। दुनियाभर के वैज्ञानिक कोरोना का कारगर उपचार खोजने में जुटे हैं। मगर भारतीय मूल की एक अमेरिकी किशोरी ने शानदार प्रयास किया है। अनिका को शोध के लिए 25 हजार डॉलर यानी करीब 18 लाख रुपये का इनाम दिया गया है।

अनिका चेबरोलू को यह राशि 3 एम यंग साइंटिस्ट चैलेंज में शीर्ष 10 में आने के लिए मिली है। यह अमेरिका की एक प्रमुख माध्यमिक विद्यालय विज्ञान प्रतियोगिता है। 3 एम मिनेसोटा स्थित एक अमेरिकी विनिर्माण कंपनी है। पिछले साल एक गंभीर इन्फ्लूएंजा संक्रमण से जूझने के बाद चेबरोलू ने यंग साइंटिस्ट चैलेंज में हिस्सा लेने का फैसला किया। वह इन्फ्लूएंजा का इलाज खोजना चाहती थी। कोविड-19 के बाद सब बदल गया और उन्होंने सार्स-सीओवी-2 संक्रमण पर ध्यान केन्द्रित किया। उन्हें इनामी राशि के साथ ही 3 एम की विशेष मेंटरशीप भी मिली है।

अपनी इस उपलब्धि पर चेबरोलू ने कहा कि मैं अमेरिका के शीर्ष युवा वैज्ञानिकों की सूची में शामिल होकर खुश हूं। मुझे उम्मीद है कि मेरी इस खोज से लोगों की जिंदगी फिर से सामान्य पटरी पर लौट सके। चेबरोलू का ईनामी आविष्कार मुख्य मॉलिक्यूल को खोजने के लिए इन-सिलिको प्रणाली का उपयोग करता है, जो सार्स-सीओवी-2 वायरस के प्रोटीन से बंध सकता है।

Share The News
Read Also  निजी चिकित्सालयों/निजी लैब में कोविड -19 संक्रमण के जांच की ICMR की गाइडलाइन और कँहा करवाए

Get latest news on Whatsapp or Telegram.