कोरोना से जंग में भारत को एक और कामयाबी, M-RNA टीका देश में तैयार

कोरोना के खिलाफ जंग भारत को बडी कामयाबी मिली है। इस महामारी को मात देने के लिए देश को एक और उपलब्धि मिली है। भारत ने दुनिया के सबसे खास एम-आरएनए तकनीक पर आधारित कोरोना टीका देश में ही तैयार कर लिया गया है। हालांकि अभी इसका ह्यूमन ट्रायल पहले चरण में है। इस खास तकनीक के टीके ने भारत को आत्मनिर्भरता के क्षेत्र में और मजबूत किया है।

कोरोना से जंग में भारत लगातार मेडिसीन के क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन कर रहा है। अब एम-आरएनए टीका ऐसी ही एक उपलब्धि है। तापमान से लेकर कीमतों तक में यह सबसे अलग होगा। भारतीय वैज्ञानिकों की लंबी खोज और रात-दिन की मेहनत के बाद इस टीके को तैयार किया जा रहा है।

अब तक दुनिया में एमआरएनए तकनीक पर दो ही टीके उपलब्ध हैं। इनमें पहला है अमरीकी दवा कंपनी का फाइजर,  जिसे-70 डिग्री सेल्सियस तापमान पर रखना बेहद जरूरी है। इस टीके की प्रति डोज कीमत करीब 1431 रुपये है। वहीं दूसरा टीका मोर्डना का है, जिसे 2 से आठ डिग्री सेल्सियस तापमान पर रखा जा सकता है, लेकिन प्रति डोज इस टीके की कीमत करीब 2715 रुपए हो सकती है। इन टीकों की दो खुराक का इस्तेमाल करने में एक व्यक्ति को कम से कम पांच हजार रुपए खर्च करना होगा।

इन दो टीकों के मुकाबले भारत में तैयार हो रहा टीका काफी सस्ता होगा। एम-आरएनए तकनीक से टीका विकसित किया गया है वह 2 से आठ डिग्री सेल्सियस तापमान में ही सुरक्षित रहेगा और इसकी कीमत भी करीब प्रति डोज 200 से 300 रुपये के आसपास हो सकती है। हालांकि यह कीमतों का अनुमान है। स्वास्थ्य मंत्रालय से जुड़े अधिकारियों की मानें तो उन्हें उम्मीद है कि यह टीका इससे अधिक कीमत पर उपलब्ध नहीं होगा।

Read Also  कोरोना की ताजा मामले 3189 और 22 मौतें

जेनोवा बायोफार्मास्युटिकल्स लिमिटेड और भारत सरकार के डीबीटी मंत्रालय के वैज्ञानिकों ने मिलकर इसे तैयार किया है। इस टीके पर पहले चरण के तहत ह्यूमन ट्रायल चल रहा है। इस टीके पर दूसरे चरण का परीक्षण आगामी मार्च माह में होने की उम्मीद है।

नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल के मुताबिक भारतीय वैज्ञानिकों ने भारत की जरूरतों को समझते हुए एकदम अलग टीका तैयार किया है, जिसे अधिक तापमान पर भी सुरक्षित रखा जा सकता है। यह एक बड़ी कामयाबी है।

एमआरएनए टीके में कोरोना वायरस की आनुवंशिक सामग्री का एक खास हिस्सा होता है। इसे मैसेंजर आरएनए या एमआरएनए कहते हैं। शरीर में दाखिल होने पर यह एम-आरएनए हमारी ही कोशिकाओं को वायरस वाला वह प्रोटीन बनाने का निर्देश देने लगता है, जिसकी मदद से असली कोरोना वायरस हमला बोलता है। इसके चलते शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने लगती है।

Share The News

Get latest news on Whatsapp or Telegram.