छत्तीसगढ़ के प्रमुख देवी दर्शन- डोंगरगढ़ की बम्लेश्वरी माई, जानें मंदिर की पौराणिक कथा





Ekhabri धर्मदर्शन, पूनम ऋतु सेन। राजनांदगांव जिला मुख्यालय से लगभग 41 किलोमीटर दूर स्थित डोंगरगढ़ दक्षिण-पूर्वी मध्य रेलवे के हावड़ा मुम्बई रेल मार्ग पर और रायपुर-नागपुर राष्ट्रीय राजमार्ग में महाराष्ट्र प्रांत से लगा सीमांत तहसील मुख्यालय है। ब्रिटिश शासन काल में यह एक जमींदारी थी। प्राचीन काल से बिमलाई देवी यहाँ की अधिष्ठात्री हैं, जो आज बम्लेश्वरी देवी के नाम से विख्यात है।




बम्लेश्वरी माँ का मंदिर

यह प्रसिद्ध मन्दिर एक पहाड़ी पर 16 सौ फ़ीट की ऊँचाई पर स्थित है। यहाँ तक पहुँचने के लिए 11 सौ सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती है। पहाड़ी के ऊपर एक लम्बा-चौड़ा चबूतरा है, जिसके बीचों बीच यह मन्दिर स्थापित है। इसका निर्माणकाल अज्ञात है, तथापि इतिहासकार तथा पुरातात्विक विषय के जानकारों के अनुसार यह कलचुरी कालीन है। जनसामान्य में प्रचलित धारणा के अनुसार यह 2 हजार वर्ष पुराना है। कई बार जीर्णोद्धार के कारण इसका बाहरी स्वरूप आधुनिक प्रतीत होता है, लेकिन मूल संरचना में किसी प्रकार बदलाव नहीं किया गया है। इसके चारों ओर प्रदक्षिणा पथ निर्मित है। देवी प्रतिमा, उनके वस्त्र और आभूषण आदि गोण्ड मूर्ति कला से प्रभावित है।

यहाँ की पहाड़ियों से 15वीं 16वीं शती ई. की अनेक मूर्तियाँ मिली हैं। इतिहासकारों के अनुसार यहाँ 16वीं शताब्दी तक गोण्ड राजाओं का शासन था। अनुमान लगाया जाता है, कि सम्भवतः इस मन्दिर का निर्माण भी इसी राजवंश ने करवाया होगा।




पौराणिक कथा

किंवदंती है, कि आज से लगभग 2200 वर्ष पूर्व डोंगरगढ़ एक अत्यंत समृद्ध नगरी थी। उस जमाने में डोंगरगढ़ का नाम कामावती था। यहाँ राजा कामसेन का शासन था। मान्यता है, कि उनके पिता वीरसेन ने इस मन्दिर का निर्माण करवाया था। इस मन्दिर से सम्बन्धित प्रसिद्ध दन्त कथा के अनुसार काम कन्दला, राजा कामसेन के राज दरबार में नर्तकी थी। वही माधवनल नामक निपुण संगीतज्ञ हुआ करता था। एक बार माधवनल ने कामकन्दला के नृत्य से प्रभावित होकर राजा कामसेन की दी हुई मोतियों की माला कामकन्दला को भेंट कर दी। क्रोधित होकर राजा ने माधवनल को राज्य से निकाल दिया। माधवनल डोंगरगढ़ की पहाड़ियों की गुफा में जाकर छिप गया। कामकन्दला व माधवनले एक दूसरे से प्रेम करते थे। दोनों सबकी नजर बचाकर एक दूसरे से मिलने लगे। राजा कामसेन का पुत्र मदनादित्य कामकन्दला के प्रति आसक्त था।

Read Also  गंभीर रूप से कुपोषित बच्चों के घर पर इलाज के लिए अभिनव कार्यक्रम की शुरुआत

भयभीत कामकन्दला उससे प्रेम का नाटक करने लगी। मदनादित्य को जब सच्चाई की जानकारी मिली उसने कामकन्दला को राजद्रोह के आरोप मे बंदी बना लिया और माधवनल को पकड़ने सिपाहियों को भेजा। माधवनल पहाड़ी से निकल भागा और उज्जैन जा पहुँचा, जहाँ राजा विक्रमादित्य का शासन था। उन्होंने माधवनल की सहायता करने का निश्चय किया। उन्होंने अपनी सेना के साथ कामाख्या नगरी पर आक्रमण कर दिया। इस युद्ध में विक्रमादित्य विजयी हुए एवं मदनादित्य, माधवनल के हाथों मारा गया। युद्ध के पश्चात विक्रमादित्य द्वारा कामकन्दला एवं माधवनल की प्रेम परीक्षा लेने हेतु मिथ्या सूचना फैलाई गई, कि माधवनल वीरगति को प्राप्त हो गए। इतना सुन कामकन्दला ने ताल में कूदकर प्राणोत्सर्ग कर दिया। उधर कामकन्दला के आत्मोत्सर्ग से माधवनल ने भी अपने प्राण त्याग दिये।

Share The News
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 





परम्परागत रूप से एक दिन बाद मनाया जाता है यहां दशहरा, जानें क्या है इसके पीछे की कहानी

By Reporter 5 / October 15, 2021 / 0 Comments
(Ekhabri विशेष), पूनम ऋतु सेन। अश्विन शुक्ल एकादशी को पूरे भारतवर्ष में दशहरा बडे ही धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन देश के कुछ हिस्सों में इसके अलग अलग स्वरूप दिखायी देते है, किसी स्थल पर इसकी अलग मान्यताएँ होतीं...

अब भोपाल में भीड़ पर चढ़ाई कार: दुर्गा विसर्जन करने जा रही भीड़ पर चढ़ा दी कार, एक की मौत

By Rakesh Soni / October 17, 2021 / 0 Comments
भोपाल। पहले लखीमपुर खीरी, फिर जशपुर और अब भोपाल में कार से रौंदने की घटना सामने आई है। बजारिया थाना क्षेत्र में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के जुलूस में एक युवक ने तेज रफ्तार कार घुसा दी। कार की चपेट में...

सीएम बघेल आज रायपुर और दुर्ग जिले के दशहरा कार्यक्रम में होंगे शामिल, कार्यक्रम के अतिथि बनने मिला न्योता

By Reporter 5 / October 15, 2021 / 0 Comments
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 15 अक्टूबर को राजधानी रायपुर और दुर्ग जिले में आयोजित दशहरा उत्सव कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री बघेल के निर्धारित दौरा कार्यक्रम के अनुसार 15 अक्टूबर को पूर्वान्ह 11.55 बजे रायपुर हेलीपेड से प्रस्थान कर दोपहर 12...

अब दुर्गापुर में दुर्गा विसर्जन कर लौट रहे लोगों पर बम से हमला, वाहनों में तोडफ़ोड़

By Rakesh Soni / October 17, 2021 / 0 Comments
कोलकाता। पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर से बड़ी वारदात सामने आई है। यहां शनिवार रात दुर्गा विसर्जन कर घर लौट रही भीड़ पर एक अज्ञात समूह ने देसी बम से हमला कर दिया गया। बम की आवाज सुनते ही अफरा-तफरी मच...

बच्चों को कुपोषण श्रेणी से बाहर लाने के उद्देश्य से ‘सीधी’ के महिला बाल विकास अधिकारियों द्वारा कैम्प का आयोजन

By Reporter 5 / October 17, 2021 / 0 Comments
भोपाल। मध्य प्रदेश के महिला बाल विकास विभाग सीधी के आदेशानुसार मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के निर्देशन में बाल आरोग्य संवर्धन कार्यक्रम अंतर्गत कुपोषित बच्चों के एकीकृत पोषण प्रबंधन हेतु चिकित्सीय परीक्षण उपखंड चिकित्सा अधिकारी रामपुर नैकिन डॉ प्रशांत...

ईद को लेकर रायपुर जिला प्रशासन सजग, जारी किए गाइडलाइन्स

By Reporter 5 / October 18, 2021 / 0 Comments
रायपुर। ईद मिलादुन्नबी को लेकर रायपुर जिला प्रशासन ने गाइडलाइन जारी की है। ज्ञात हो कि कल 19 अकटुबर दिन मंगलवार को ईद का त्यौहार है। इसी को लेकर प्रशासन सजग है। जारी गाइडलाइन के अनुसार ईद मिलादुन्नबी के दौरान...

आज का राशिफल

By Reporter 1 / October 18, 2021 / 0 Comments
मेष राशि : आज का दिन आपके लिए भरपूर लाभ देने वाला रहेगा। आज सायंकाल तक आपकी कोई ऐसी डील फाइनल होगी, जो आपको भरपूर लाभ देकर जाएगी, जिससे आपकी आर्थिक स्थिति को मजबूती मिलेगी। आज आप अपने परिवार के...

कुंडली बॉर्डर पर किसान आंदोलन मंच के सामने युवक की हत्याव कर शव लटकाया

By Reporter 1 / October 15, 2021 / 0 Comments
कुंडली बॉर्डर पर किसान आंदोलन मंच के सामने एक युवक की बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी गई। पहले उसे उसे 100 मीटर तक घसीटा गया। इसके बाद एक हाथ काट दिया और गर्दन पर हमला किया गया। इससे युवक...

आज का राशिफल

By Reporter 1 / October 17, 2021 / 0 Comments
मेष राशि : आज का दिन आपके लिए सामान्य रहने वाला है। आज आपको अपने किसी परिजन से विश्वासघात मिल सकता है, जिसके कारण आप निराश रहेंगे व अपने  काम पर ध्यान नहीं लगाएंगे, लेकिन आज आपको अपने व्यापार में...

कही-सुनी (17 0CT-21): मंच के पीछे की कहानियाँ- राजनीति, प्रशासन और राजनीतिक दलों की

By Reporter 5 / October 17, 2021 / 0 Comments
रवि भोई ( लेखक, पत्रिका समवेत सृजन के प्रबंध संपादक और स्वतंत्र पत्रकार हैं।) उप्र चुनाव तक भूपेश बघेल सुरक्षित ? ऐसा लग रहा है कम से कम उत्तरप्रदेश चुनाव तक तो छत्तीसगढ़ में नेतृत्व परिवर्तन टल गया है। हालांकि...