बीमार पूर्व कर्मचारी से मिलने मुंबई से पुणे पहुंचे रतन टाटा, उठाया पूरे परिवार का खर्च

प्रसिद्ध उद्योगपति रतन टाटा मानवता के लिए दुनियभर में प्रसिद़ध हैं। वह अपने कर्मचारियों के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं भी चलाते हैं। हाल में ही उन्होंने फिर से ऐसी ही एक मिसाल पेश की है। इस बार वह खुद अचानक अपने एक पूर्व कर्मचारी के घर पहुंच गए जो कई दिनों से बीमार था।

83 साल के रतन टाटा मुंबई से पुणे पहुंचे और सीधे अपने पूर्व कर्मचारी के घर पहुंचे। यहां उन्होंने उसका हालचाल लिया। उन्हें पता चला कि कर्मचारी दो साल से बीमार है तो वह खुद को रोक नहीं पाए। अचानक रतन टाटा को देखकर यह कर्मचारी भी हैरान हो गया।

टाटा समूह का सर्वेश्वर रतन टाटा रविवार को दोपहर लगभग 3 बजे कोथरुड में गांधी भवन के पास वुडलैंड सोसायटी में पहुंचे। वह बिना भीड़ या सुरक्षा के वहां आए। यहां वह इनामदार के घर पहुंचे और उनसे बातचीत की। वह यहां लगभग आधे घंटे तक रुके। इस दौरान उन्‍होंने कर्मचारी के पूरे परिवार के खर्च को उठाने का वायदा किया। साथ ही बच्चों की पढाई और स्वास्थ्य में भी आर्थिक सहयोग देने का वायदा किया।

उन्होंने इनामदार के अच्छे स्वास्थ्य की कामना की और लौट गए। इस मामले में सोसायटी में रहने वाली अंजलि पर्डिकर ने बताया कि रतन टाटा देखने में इतने सहज थे कि उन्हें बिल्कुल भी नहीं लगा कि वह इतने बड़े उद्योगपति है। उनमें जरा भी घमंड नहीं था। सोसायटी में दो टाटा की गाड़ियां दाखिल हुईं। उनमें से एक गाड़ी से वह नीचे उतरे और सीधे लिफ्ट में घुस गए। उन्हें देखकर लगा कि वह रतन टाटा हैं। बाद में जब अंजलि ने कर्मचारियों से पूछा तो उन्होंने बताया कि हां वह रतन टाटा ही हैं। रतन टाटा ने अपना यह दौरा व्यक्तिगत रखा। किसी मीडियावाले को भी सूचना नहीं दी गई। वह चुपचाप पुणे की सोसायटी में पहुंचे और अपने पूर्व कर्मचारी से मिले।

Share The News
Read Also  मुफ़्त अनाज योजना में कोताही कर रहे कई राज्य

Get latest news on Whatsapp or Telegram.