पूर्वी लद्दाख विवाद पर सेना प्रमुख बोले- चरणबद्ध तरीके से हट रही हैं भारत और चीन की सेनाएं


RO 12784/15

देहरादूनः थलसेना अध्यक्ष जनरल एम एम नरवणे ने पूर्वी लद्दाख विवाद पर शनिवार को कहा कि चीन से लगती भारत की सीमा पर स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है और दोनों देशों की सेनाएं चरणबद्ध तरीके से हट रही हैं, जिसकी शुरुआत गलवान घाटी से हो रही है. जनरल नरवणे के इस बयान से क्षेत्र से सैनिकों की परस्पर वापसी की पहली आधिकारिक पुष्टि हुई है.

 

उन्होंने विश्वास जताया कि दोनों देशों के बीच जारी वार्ता से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के बारे में माने जा रहे सभी मतभेद सुलझ जाएंगे. जनरल नरवणे यहां भारतीय सैन्य अकादमी की पासिंग आउट परेड से इतर संवाददाताओं से बात कर रहे थे. उन्होंने कहा ‘दोनों पक्ष चरणबद्ध तरीके से हट रहे हैं. हमने उत्तर से, गलवान नदी के क्षेत्र से इसकी शुरुआत की है. हमारी बहुत सार्थक बातचीत हुई. और जैसा कि मैंने कहा कि यह जारी रहेगी तथा आगे हालात सुधरेंगे.’

 

पांच सप्ताह से अधिक समय तक बनी गतिरोध की स्थिति

 

भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग सो, गलवान घाटी, डेमचोक और दौलत बेग ओल्डी में पांच सप्ताह से अधिक समय से गतिरोध की स्थिति बनी हुई है. चीनी सेना के जवान बड़ी संख्या में पैंगोंग सो समेत अनेक क्षेत्रों में सीमा के भारतीय क्षेत्र की तरफ घुस आए थे.

 

भारतीय सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के उल्लंघन की इन घटनाओं पर कड़ी आपत्ति व्यक्त करती रही है और उसने क्षेत्र में अमन-चैन की बहाली के लिए चीनी सैनिकों की तत्काल वापसी की मांग की है. दोनों पक्षों ने पिछले कुछ दिन में विवाद सुलझाने के लिए श्रृंखलाबद्ध बातचीत की है.

Read Also  न्यूज एजेंसी का उप संपादक श्रीनगर में ग्रेनेड के साथ गिरफ्तार

 

उन्होंने कहा ‘मैं सभी को आश्वस्त करना चाहूंगा कि चीन के साथ हमारी सीमाओं पर स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है. हम श्रृंखलाबद्ध बातचीत कर रहे हैं जो कोर कमांडर स्तर की वार्ता से शुरू हुई थी जिसके बाद स्थानीय स्तर पर समान रैंक के कमांडरों के बीच बैठक हुई.’ थलसेना प्रमुख ने कहा ‘परिणामस्वरूप काफी हद तक दोनों पक्ष एक-दूसरे के साथ गतिरोध से अलग हुए हैं और हमें उम्मीद है कि सतत बातचीत से हम अपने बीच माने जाने वाले सभी मतभेदों को सुलझा लेंगे.’

 

हॉट स्प्रिंग क्षेत्र से दोनों सेनाओं ने हटना शुरू किया 

 

सैन्य सूत्रों ने मंगलवार को दावा किया था कि दोनों सेनाओं ने गलवान घाटी में गश्त बिंदु 14 और 15 के आसपास से तथा हॉट स्प्रिंग क्षेत्र से हटना शुरू कर दिया है. सूत्रों का कहना है कि चीनी पक्ष दोनों क्षेत्रों में डेढ़ किलोमीटर तक पीछे हट गया है. हालांकि, विदेश मंत्रालय या रक्षा मंत्रालय ने अभी तक इस संबंध में प्रश्नों का उत्तर नहीं दिया है. हालात पर नजर रख रहे लोगों का कहना है कि अभी तक इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि चीनी सैनिक गलवान घाटी और हॉट स्प्रिंग में एलएसी के भारतीय क्षेत्र से वापस हो गए हैं.

 

विवाद को समाप्त करने के लिए पहले गंभीर प्रयास के तहत लेह स्थित 14वीं कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग, लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और तिब्बती सैन्य जिले के कमांडर मेजर जनरल लिऊ लिन ने छह जून को करीब सात घंटे तक वार्ता की थी. इसके बाद बुधवार और शुक्रवार को मेजर जनरल स्तर की वार्ता हुई. दोनों बार भारतीय पक्ष ने यथास्थिति बहाल करने और इलाकों से हजारों चीनी सैनिकों की तत्काल वापसी पर जोर दिया था. भारत इस क्षेत्र को एलएसी का अपना क्षेत्र मानता है.

Read Also  कांग्रेस ने पुरी लोकसभा सीट से घोषित किया प्रत्याशी, सुचारिता मोहंती ने लौटाया था टिकट

 

रक्षा मंत्री ने की सैन्य तैयारियों की समीक्षा

 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को पूर्वी लद्दाख में तथा सिक्किम, उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास अन्य कई संवेदनशील इलाकों में समग्र सैन्य तैयारियों की समीक्षा की. सूत्रों ने बताया कि पूर्वी लद्दाख में गतिरोध के बाद दोनों पक्षों ने पिछले कुछ दिन में उत्तरी सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और अरुणाचल प्रदेश में एलएसी पर अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया है.

 

पिछले महीने की शुरुआत में गतिरोध शुरू होने के बाद भारतीय सैन्य नेतृत्व ने फैसला किया था कि भारतीय सैनिक पैंगोंग सो, गलवान घाटी, डेमचोक तथा दौलत बेग ओल्डी के सभी विवादित क्षेत्रों में चीनी सैनिकों के आक्रामक अंदाज से निपटने के लिए कड़ा रुख अपनाएंगे. चीनी सेना एलएसी के पास धीरे-धीरे अपना रणनीतिक भंडार बढ़ाती रही है और उसने वहां तोपें एवं अन्य भारी सैन्य उपकरण पहुंचाए हैं.

 

सड़क निर्माण पर चीन ने जताया विरोध

 

मौजूदा गतिरोध के शुरू होने की वजह पैंगोंग सो झील के आसपास फिंगर क्षेत्र में भारत के एक महत्वपूर्ण सड़क निर्माण का चीन द्वारा किया जा रहा तीखा विरोध है. इसके अलावा गलवान घाटी में दारबुक-शयोक-दौलत बेग ओल्डी को जोड़ने वाली एक और सड़क के निर्माण पर भी चीन विरोध जता रहा है.

 

पैंगोंग सो में फिंगर क्षेत्र में सड़क को भारतीय जवानों के गश्त करने के लिहाज से अहम माना जाता है. भारत ने पहले ही तय कर लिया है कि चीनी विरोध की वजह से वह पूर्वी लद्दाख में अपनी किसी सीमावर्ती आधारभूत परियोजना को नहीं रोकेगा. दोनों देशों के सैनिक गत पांच और छह मई को पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग सो क्षेत्र में आपस में भिड़ गए थे. इस घटना में दोनों पक्षों के सैनिक घायल हुए थे. इस झड़प में भारत और चीन के करीब 250 सैनिक शामिल थे. इसी तरह की एक अन्य घटना में नौ मई को उत्तरी सिक्किम सेक्टर में नाकू ला दर्रे के पास लगभग 150 भारतीय और चीनी सैनिक आपस में भिड़ गए थे.

Share The News




CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


hamla

डोडा के जंगल में देर रात मुठभेड़, सेना के कैप्टन सहित चार जवान हुए बलिदान

By Rakesh Soni / July 16, 2024 / 0 Comments
जम्मू-जम्मू- दहशतगर्द जम्मू-कश्मीर में लगातार शांति भंग करने की फिराक में हैं। जम्मू संभाग के जिला डोडा के देसा वन क्षेत्र में सोमवार को आतंकियों के साथ मुठभेड़ हुई। देर रात तक चली मुठभेड़ में कैप्टन सहित चार जवान वीर...
canada

रिश्तों में कड़वाहट फिर भी चार गुना भारतीय जा रहे कनाडा

By Reporter 1 / July 14, 2024 / 0 Comments
कनाडा और भारत के रिश्तों में इस समय थोड़ी कड़वाहट आई हो, लेकिन भारतीयों की सबसे ज्यादा पसंद कनाडा देश ही है। 2013 से कनाडा जाने वाले भारतीयों की संख्या में 4 गुना वृद्धि हुई है। यह दावा नेशनल फाउंडेशन...
IMG 20240714 WA0006

प्रेमी निकला प्रेमिका का हत्यारा, पहचान छिपाने पेट्रोल से जलाया चेहरा, पुलिस ने सुलझाई बोरी में मिली लाश की गुत्थी

By User 6 / July 14, 2024 / 0 Comments
अमलीडीह के हत्याकांड में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। प्रेमी ने ही अपनी शादीशुदा प्रेमिका की हत्या कर उसके चेहरे और शरीर को पेट्रोल से जलाया था। शव के टुकड़े कर बोरियों में भरकर जंगल और नहर किनारे फेंक...
chbutre

चबूतरे पर चल रहा स्कूल

By Reporter 1 / July 14, 2024 / 0 Comments
मध्य प्रदेश के सिरोंज में स्कूल भवनों की दुर्दशा के कारण बच्चों की पढ़ाई छूट रही है। जर्जर दीवारों ओर गिरती छतों के कारण स्कूल भवनों में बच्चे बैठते नहीं है। बीआरसी रमेश किरार ने बताया कि सरकार की तरफ...
IMG 20240712 WA0014

मितानिन बहनों के खातों में अब सीधे पहुंचेगी राशि: मुख्यमंत्री

By User 6 / July 12, 2024 / 0 Comments
रायपुर, 12 जुलाई 2024: मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने छत्तीसगढ़ की स्वस्थता और सुशासन की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। आज राजधानी रायपुर के दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में राज्य भर से आई हुई हजारों मितानिन बहनों के सामने मुख्यमंत्री...
laxmi

पूजन की सही विधि के बिना लक्ष्मी को प्रसन्न करना मुश्किल

By Reporter 1 / July 14, 2024 / 0 Comments
हर व्यक्ति सुखी-संपन्न जीवन व्यतीत करना चाहता है, इसलिए हर किसी की यही ख्वाहिश होती है कि उसे उसकी मेहनत का पूरा फल मिले और जीवन में धन, संपत्ति और सुख-सुविधाओं की कोई कमी न हो। इसके लिए हर व्यक्ति...
IMG 20240717 WA0005

Breaking News: रायपुर में बस-ट्रक टक्कर, 20 घायल

By Reporter 5 / July 17, 2024 / 0 Comments
  रायपुर। राजधानी रायपुर से एक बड़े हादसे की खबर सामने आ रही है। रायपुर-बालौदाबाजार मार्ग पर सेमरिया गांव के पास सिटी बस और ट्रक की आमने-सामने जोरदार भिड़ंत हो गई है। इस हादसे में बस सवार करीब 20 लोग...
IMG 20240712 WA0011

25 जून को मनाया जाएगा ‘संविधान हत्या दिवस’: केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना

By User 6 / July 12, 2024 / 0 Comments
नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने 25 जून को 'संविधान हत्या दिवस' के रूप में घोषित किया है। सरकार ने इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी है। इसमें कहा गया है कि 25 जून 1975 को देश में आपातकाल लगाया...
bhagwan

भगवान जगन्नाथ ने बचाई अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप की जान

By Reporter 1 / July 16, 2024 / 0 Comments
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर हमले के बाद इस्कॉन ने बड़ा दावा किया है। इस्कॉन मंदिर कोलकाता के उपाध्यक्ष राधारमण दास ने कहा कि ट्रंप की जान भगवान जगन्नाथ ने बचाई है। दास ने एक्स पर लिखा कि...
IMG 20240713 WA0017

अयोध्या धाम के लिए मुख्यमंत्री का दौरा

By User 6 / July 13, 2024 / 0 Comments
रायपुर, 13 जुलाई 2024/ 'राम काज कीन्हें बिनु मोहि कहां विश्राम' की भावना के साथ मुख्यमंत्री विष्णु देव साय और उनके मंत्रिमण्डल के सदस्य अयोध्या धाम में राम काज और राम भक्ति के लिए रवाना हुए।  मुख्यमंत्री ने प्रभु श्री...

Leave a Comment