परिवार के विरोध के बावजूद पुलिस ने जबरन कराया हाथरस गैंगरेप की शिकार युवती का अंतिम संस्कार

हाथरस गैंगरेप की पीड़िता की दिल्‍ली के सफदरजंग अस्‍पताल में मौत के बाद पुलिस ने परिजनों और गांवों वालों के भारी विरोध के बीच देर रात डेढ़ बजे उसका जबरन अंतिम संस्कार करवा दिया है। रात में युवती का शव उसके गांव बूलगढ़ी पहुंचा तो जहां पुलिस प्रशासन ने पहले से ही उसके अंतिम संस्कार की तैयारी करके रखी गई थी। मगर परिजन हिंदू धर्म की रीति के अनुसार रात में अंतिम संस्कार के लिए तैयार नहीं हुए। पहले पुलिस प्रशासन उन्हें काफी मनाने का प्रयास करता रहा। मगर परिजन अपनी बात पर अडिग रहे।

युवती की मां हाथ जोड़कर अधिकारियों से गुहार लगाती रही कि उसकी बेटी का भोर के समय अंतिम संस्कार किया जाए, लेकिन अधिकारियों के सामने उसकी एक न चली। अधिकारियों द्वारा परिजनों को दरकिनार कर युवती के शव को जबरन श्मशान घाट ले जाया गया,  जहां आनन-फानन में पुलिस कर्मियों द्वारा चिता सजाकर युवती के शव का दाह संस्कार कर दिया गया। ग्रामीणों के भारी आक्रोश को देखते हुए इलाके में बड़े पैमाने पर पुलिसबल की तैनाती की गई थी।

गैंगरेप पीड़िता का शव रात करीब 12:45 हाथरस पहुंचा। एंबुलेंस को जब अंतिम संस्कार के लिए ले जाया रहा था तो लोगों ने उसे रोक दिया और एंबुलेंस के लेटकर आक्रोश जताया। इस दौरान एसडीएम पर परिजनों के साथ बदसलूकी करने का आरोप लगा। इसके बाद पुलिस और ग्रामीणों में झड़प हो गई। परिजन रात में शव का अंतिम संस्कार नहीं करना चाहते थे, जबकि पुलिस तुरंत अंतिम संस्कार कराना चाहती थी। इसके बाद आधी रात के बाद करीब 2:40 बजे बिना किसी रीति रिवाज के और परिजनों की गैरमौजूदगी में पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

Read Also  इस अभिनेत्री ने सोशल मीडिया पर शोषण से तंग होकर की आत्महत्या की कोशिश

गैंगरेप पीड़िता के चाचा ने बताया पुलिस दबाव बना रही थी कि शव का अंतिम संस्कार कर दें, जबकि बेटी के मां-बाप और भाई कोई भी यहां मौजूद नहीं है। वे लोग दिल्ली से अभी पहुंचे नहीं हैं। रात में अंतिम संस्कार न करने और परिवार का इंतजार करने की बात कहने पर पुलिस ने कहा कि अगर नहीं करोगे तो हम खुद कर देंगे।

इस बीच यूपी कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने उत्‍तर प्रदेश पुलिस की इस हरकत को कायराना बताया है। कांग्रेस ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा है-निर्दयता की हद है ये। जिस समय सरकार को संवेदनशील होना चाहिए उस समय सरकार ने निर्दयता की सारी सीमाएं तोड़ दी।’  आम आदमी पार्टी ने भी अंतिम संस्‍कार का वीडियो अपने फेसबुक पेज पर डाला है।

यूपी के हाथरस में युवती के साथ निर्भया जैसी हैवानियत पर सियासत गरमा गई है। सोशल मीडिया पर लोगों का आक्रोश झलक रहा है। दिल्ली के जिस सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता ने आखिरी सांस ली, उसके बाहर प्रदर्शन हुआ,  कैंडल मार्च निकला। यूपी में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग हो रही है।

Share The News

Get latest news on Whatsapp or Telegram.

   

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of