Ekhabri नवरात्रि विशेष: शक्ति स्वरूपा शख्सियत – डॉ शिल्पा पवार

लोगों को सुरक्षित रखना ही है पहली प्राथमिकता

रायपुर। लोगों को सुरक्षित और स्वास्थ रखना मेरी पहली प्राथमिकता है। ये मानना है स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ शिल्पा पवार का। कोरोना काल में अपनी सुरक्षा को एक ओर करते हुए ऐसे कई लोगों की मदद की है जिन्हें संक्रमित होने का संदेह था। नवरात्र के नवे दिन हम डॉ पवार के अनुभव आपके साथ साझा कर रहे हैं। वह कहती हैं कि कई बार हालात ऐसे हो जाते हैं, जिसमें सबसे बड़ा धार्म इंसानियत का होता है।

डॉ शिल्पा की माने तो हम इलाज करते करते पेशेंट से भावनात्मक रूप से जुड़ जाते हैं। प्रेगनेंसी के समय कई तरह की परेशानियां लोगों को होती है ऐसे में अगर हम उनका न सोचें तो ये हमारे काम के साथ वफादारी नहीं होगी। कोरोना काल में ऐसे कई बार हुआ है कि हमें पेशेंट यह बताते हैं कि उन्हें बुखार है या सर्दी जुखाम की समस्या है, ऐसे समय भी हमें उनकी मदद के लिए खड़े होना जरुरी होता है। डॉ शिल्पा ने अपने इलाज से ऐसे कई महिलाओं को मां बनने का सुखद अहसास कराया है जिन्होंने मां बनेने की आस छोड़ दी थी। वह कहती हैं कि हमारे प्रयास से अगर किसी को यह सुख मिले तो ये बहुत अच्छी बात है।

कोरोना काल में हर कोई अपने आप को कोरोना से बचाने के लिए तरह तरह के तरीके अपना रहा है। इस दौरान एक केस ऐसा भी आया जब एक पेशेंट को लेबर पेन चालू हो गया था और पता चला उनके पति कोरोना पॉजिटीव हैं। हमने पेशेंट की डिलेवरी की तैयारी की। भगवान ने भी साथ दिया और उस महिला की रिपोर्ट निगेटिव आई।

Read Also  विश्व संयुक्त परिवार दिवस: तीन पीढ़ी एक साईकिल पर

क्लीनिक में इलाज के दौरान कई पेशेंट होते हैं, जिन्हें कोरोना के लक्षण आ जाते हैं, ऐसे में हम उन्हें फोन पर लगातार सलाह देते हैं और उन्हें स्वस्थ्य करने के हर प्रयास करते हैं। जब मरीज हमारे से जुड़ जाता है तो डिलेवरी तक उसे सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी हो जाती है।

Share The News

Get latest news on Whatsapp or Telegram.