आप- बीती भारत-चीन 1962 युद्ध: सायरन की आवाज सुनते ही छा जाता था अंधेरा

  • आक्रमण होने के अंदेशे में करते थे ब्लैकआउट
  • सन 1962 के दौरान युद्ध का माहौल आया याद, अब देश है शक्तिशाली
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (1)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (1)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (2)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (2)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (3)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (3)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (4)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (4)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (5)
Website Advt. - Chhattisgarh Tourism (5)
previous arrow
next arrow

अचानक से सयरन की गूंज और छाने लगता था सन्नाटा। चारों ओर अनिश्चितता और जान बचाने की चिंता। ये समय था 1962 का जब चीन ने भारत पर आक्रमण किया था। देश आजादी के बाद अपनी युवा अवस्था में कदम रखने वाला ही था कि उसके माथे पर युद्ध का एक बड़ा सा प्रशनचिन्ह लग गया। 73 साल बाद एक बार फिर आज वही स्थिति आन खड़ी हुई है पर हमारा देश अब अपरिपक्व नहीं बल्कि परिपक्व हो चुका है। अब वो मजबूती के साथ अपने हक की लड़ाई लड़ने में सक्षम है। ये बातें वे लोग भी महसूस कर रहे हैं, जिन्होंने सन 1962 के दौरान चीन और भारत युद्ध के दौरान खड़ी हुई विपरीत परिस्थितियों को देखा और उसका सामना किया था।


युद्ध के दौर के साक्षी बने इन लोगों की उम्र अब काफी हो चुकी है, लेकिन उस वक्त की तस्वीर आज भी इनकी आंखों में रील की तरह सामने आ जाती है।

अनंत दीक्षित

अपनी उम्र के 69 बसंत पार कर चुके अनंत दीक्षित युद्ध के दौरान कक्षा 7 के छात्र थे। एनसीसी अनंतके छात्र होने के कारण देशभक्ती बचपन से ही उनमें थी। उस दौर की याद कर वे बताते हैं,लोगों में बहुत ज्यादा भय था क्योंकि आजादी के बाद भी हम युद्ध के लिए किसी भी तरह से तैयार नहीं थे। चीन ने सबसे पहले लद्दाख और अरूणाचल प्रदेश में हमला किया। सैनिकों के पास न तो अच्छे शस्त्र और औजार थे और न ही खुद को बचाव के लिए उपयोगी वस्तु। सैनिकों के पास बर्फ में पहने जाने वाले बूट तक नहीं थे और न ही ठंडी से बचने के लिए पर्याप्त साधन। ऐसी स्थिति में भी हमारे देश के जवान हिम्मत नहीं हारे और सामना किया।

Read Also  टूलकिट मामला: रमन ने कहा-एफआईआर कराना सोनिया और राहुल का षड्यंत्र, थाने के सामने दिया धरना

लड़ाई शुरु हुई तब ही देशवासियों को सुरक्षित रहने के लिए बचाव के कई तरीके बताए जाते थे। चीन देश के अन्य हिस्सों में हवाई आक्रमण भी कर सकता था इससे बचने के लिए सभी को ब्लैक आउट की ट्रेनिंग दी जाती थी। थोड़ी भी भनक लगते ही सायरन बजा दिया जाता था, जिसे सुनकर लोग घर समेत आस-पास की सारी लाइट और रोशनी की सभी चीजें बंद कर देते थे। घर के बाहर की रोशनी खिड़कियों से बाहर न जाए इसके लिए खिड़कियों में काले रंग के कागज़ लगा दिए जाते थे। इसके लिए लोग और छात्र एक-दूसरे की मदद भी करत थे। हमने भी अपने घरों की खिड़कियों में काले कागज लगा रखे थे।

अपने कमाए पैसे दिए राजकिय कोश में

युद्ध के दौरान देश की आर्थिक स्थिति भी खराब होने लगी। राजकिय कोश में लोग सहायता करने के लिए आगे आए। 70 वर्षिय राजेश पटेल ने अपनी पॉकेट मनी के सारे पैसे राजकिय कोश में डाल दिए। इतना ही नहीं अपने दोस्तों के साथ चाय बेच और रेडियो रिपेयरिंग कर वे उससे मिलने वाला मेहनताना भी राजकिय कोश में डाल दिए।

नेहरू जी थे शांति दूत

प्रकाश चंद्र जैन

युद्ध के वक्त पं. जवाहर लाल नेहरू प्रधानमंत्री थे। वे शांति दूत थे ये कहना है 80 वर्षिय प्रकाश चंद्र जैन का। नेहरू जी की सोच और कल्पना में युद्ध का कोई स्थान नहीं था, यही कारण है कि हमारा देश उस समय युद्ध के लिए किसी भी तरह से तैयार नहीं था। श्री जैन उस समय 18 बरस के थे। टेक्नॉलाजी उस समय अभी के सामान नहीं हुआ करती थी। हर खबर के लिए रेडियो और अखबार की राह देखना पड़ता था। इस युद्ध के बाद 1965 में लाल बहादुर शास्त्री ने लोगों में जागरुकता लाई और देश की रक्षा के लिए योजनाएं बनानी शुरु की।

Read Also  कही-सुनी (10 OCT-21): मंच के पीछे की कहानियाँ- राजनीति, प्रशासन और राजनीतिक दलों की
एस आर माहाले,रिटायर कृषि अधिकारी


77 वर्षिय एस आर माहाले की ने भी युद्ध के दौरान अनुभव बांटे वे उस समय 18 साल के थे। देश आजाद लगभग 14 साल ही बीते थे। वे कहते हैं चीन का अक्रमण करना अप्रत्याशित था। भारत को हमले की कोई आशंका नहीं थी। सेना का यह सकारात्मक पक्ष था जो 32 दिनों तक चीन को जवाब देते रहे। युद्ध के बाद विदेशों से आने वाले समान के निर्यात में दिक्कत आने लगी थी। धीरे-धीरे समय निकला और परिस्थतियां बदलती गईं।

Share The News


CLICK BELOW to get latest news on Whatsapp or Telegram.

 


कुम्हारी में पूरे परिवार की हत्या:पति-पत्नी और दो बच्चों को कुल्हाड़ी से काट दिया, ओडिशा से आकर खेती करता था परिवार

By Rakesh Soni / September 29, 2022 / 0 Comments
दुर्ग-दुर्ग के कुम्हारी से बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां के कपसदा गांव में किसी ने पति पत्नी और दो बच्चों की निर्मम हत्या कर दी है। सूचना मिलते ही एसपी दुर्ग डॉ. अभिषेक पल्लव और पुलिस अधिकारी मौके...

रायपुर में सचिन ने झील किनारे लिया कॉफी का मजा, बेटे के साथ मस्त अंदाज में दिखे युवराज

By Rakesh Soni / October 1, 2022 / 0 Comments
रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में रोड सेफ्टी वर्ल्ड क्रिकेट सीरीज का आयोजन किया गया है। शनिवार को इस सीरीज का फाइनल मुकाबला खेला जाएगा। इससे पहले क्रिकेट के भगवान तेंदुलकर और उनकी टीम के साथी मस्त अंदाज में नजर...

नीचे से की गई फायरिंग से 3500 फीट की ऊपर विमान में बैठे यात्री को लगी गोली

By Reporter 1 / October 2, 2022 / 0 Comments
बारात यह अन्‍य खुशी के अवसर पर की गई हर्ष फायरिंग में लोगों को गोली लगने या मरने की खबर तो आपने सुनी होगी, लेकिन क्‍या आपने सुना है कि जमीन से हवाई फायरिंग की जाए और विमान सवार किसी...

बिना कपड़ों के रैंप पर वॉक कर रही मॉडल को ऐसे पहनाई गई ड्रेस

By Reporter 1 / October 2, 2022 / 0 Comments
सुपरमॉडल बेला हदीद रैंप वॉक, अपने स्टाइल और फैशन चॉइसेस के लिए मशहूर हैं। पिछले दिनों बेला ने सभी की नजरें अपनी तरफ खींंचने के लिए पेरिस फैशन वीक में रैंप पर टॉपलेस होकर और ब्रेस्ट पर हाथ रखकर आईं...

गांधी जयंती पर ऑक्सीज़ोन में हुआ “प्लॉगाथान” का आयोजन

By Reporter 5 / October 2, 2022 / 0 Comments
रायपुर। गांधी जयंती पर “बंच ऑफ फूल्स“ सहित रायपुर के एनजीओ ने स्वच्छता का संदेश देने ऑक्सीजोन में प्लॉगाथॉन का आयोजन कर इस हरीतिमायुक्त उद्यान की सफाई में अपना श्रमदान दिया। यह कार्यक्रम रायपुर स्मार्ट सिटी लि., नगर निगम, वन...

बिहार की राजधानी पटना में तीसरी का छात्र 10वीं तक के बच्चों को पढ़ाता है गणित

By Reporter 1 / October 3, 2022 / 0 Comments
इनकी उम्र और कद नहीं, यादाश्त क्षमता और पढ़ाने का कौशल देखिए। बिहार की राजधानी पटना के मसौढ़ी में तीसरी कक्षा का छात्र बाबी राज विलक्षण प्रतिभा का धनी है। उसे दसवीं तक के पाठ्यक्रम का गणित न सिर्फ कंठस्थ...

आज का राशिफल

By Reporter 1 / September 29, 2022 / 0 Comments
मेष राशि : आज का दिन आपके लिए किसी विशेष कार्य को करने के लिए रहेगा। परिवार के किसी सदस्य को घर से दूर नौकरी के लिए जाना पड़ सकता है,जिससे परिवार के सदस्य थोड़ा दुखी रहेंगे। माता पिता किसी...

Breaking News: संजय शुक्ला बने छत्तीसगढ़ के नए पीसीसीएफ

By Reporter 5 / September 30, 2022 / 0 Comments
रायपुर। छत्तीसगढ़ में राकेश चतुर्वेदी की सेवानिवृत्त होने के बाद 87बैच के आईएफएस संजय शुक्ला को नया प्रधान मुख्य वन सरंक्षक (PCCF) बनाया गया है । वे पीसीसीएफ के साथ प्रबंध संचालक छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज (व्यापार एवम विकास) सहकारी...

आज का राशिफल

By Reporter 1 / September 30, 2022 / 0 Comments
मेष राशि : आज का दिन व्यापार कर रहे लोगों के लिए किसी नई डील को लेकर आ सकता है। आपके मान सम्मान में वृद्धि होने से आपका मन प्रसन्न रहेगा और ससुराल पक्ष से भी आपको धन लाभ मिलता...

खुशखबरी, त्योहारी छुट्टी की हुई घोषणा

By Reporter 5 / September 29, 2022 / 0 Comments
रायपुर। त्योहारी सीजन शुरू होने के साथ ही छुट्टियों की घोषणा भी हो गई है दशहरे में इस बार 5 दिन की छुट्टी मिलेगी। इसके साथ ही दिवाली और शीतकालीन छुट्टी की भी घोषणा कर दी गई है। 3 से...