बुजुर्गों को मिलेगा जवान होने का मौका! रिसर्च में मिली सफलता

ताजा रिसर्च में पता चला है कि शुद्ध ऑक्सीजन के कारण इसांनों के शरीर में टेलोमेर में 20 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि देखने को मिली है। यानी अगर आप शुद्ध ऑक्सीजन में सांस ले रहे हैं तो आपकी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को उलटा की जा सकती है। इससे आप बूढ़े से जवान होने लगेंगे। यह दावा एक  अध्यन में किया गया है। इस अध्‍यन में वैज्ञानिकों ने पाया कि जिन लोगों को प्रेशर से भरे ऑक्सीजन के कमरों में रखा गया था,  उनमें कई महत्वपूर्ण बदलाव हुए हैं।

गौर हो कि टेलोमेर इंसानों में मौजूद क्रोमोसॉम को प्रोटेक्ट करता है। इसके कारण एज रिवर्सल की प्रक्रिया धीमी हो जाती है। टेलोमेरेस स्वाभाविक रूप से उम्र के साथ छोटा हो जाता है, जिससे कैंसर, अल्जाइमर और पार्किंसंस जैसी बीमारियां होती हैं।

एजिंग जनर्ल में प्रकाशित शोध के मुताबिक,  जिन लोगों के इस प्रयोग में हिस्सा लिया था, उनके शरीर में टेलोमेरेस दोबारा से बढ़ गया। जैसा कि किसी 25 साल के युवा में टेलोमेरेस का आकार होता है, ये वैसा हो गया। इस अध्ययन में यह भी पाया गया कि सेनेसेट सेल में 37 प्रतिशत की गिरावट आई, यानि वह 37 प्रतिशत कम हो गए। सेनेसेट सेल की कमी को इंसान के उम्र के बढ़ने से भी जोड़कर देखा जाता है। कथित ज़ोंबी कोशिकाओं को हटाने से जीवन का विस्तार हो सकता है।

तेल अवीव विश्वविद्यालय में मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर शैई एफरैटी के अनुसार टेलोमेयर की कमी को उम्र बढ़ने के जीव विज्ञान का’ पवित्र कंठ ‘माना जाता है,  इसलिए टेलोमेयर को बढ़ाने में सक्षम  की उम्मीद में कई औषधीय और पर्यावरणीय हस्तक्षेपों का पता लगाया जा रहा है।

Read Also  CG Corona news updates: 6000 से 1 कदम दूर, आज 261 में रायपुर से 88 मरीज मिले, कम्युनिटी स्प्रेड की दस्तक

गौर हो कि इस शोध के दौरान 64 साल के 35 स्वस्थ लोगों और 100 से अधिक बुजुर्गों ने हिस्सा लिया था। इनलोगों को दबाव वाले कमरों में बैठकर मास्क के माध्यम से 100 प्रतिशत ऑक्सीजन दी गई थी। यह सत्र 90 मिनट तक चलता था। यह प्रक्रिया सप्ताह में पांच दिन होती और पूरी स्टडी तीन महीने तक चली है। इससे पहले हुए अध्ययनों से यह पता चला है कि स्वस्थ भोजन और उच्च-तीव्रता वाला व्यायाम भी टेलोमेयर की लंबाई को संरक्षित कर सकता है।

इस स्टडी के रिसर्चर डॉ आमिर ने कहा कि अब तक लाइफस्टायल में कुछ बदलाव और काफी हार्ड एक्सरसाइज के चलते ये फायदा देखने को मिला था, लेकिन शुद्ध ऑक्सीजन की इस प्रक्रिया के सहारे सिर्फ तीन महीने की थेरेपी में हम टेलोमेर की लंबाई को काफी ज्यादा बढ़ाने में कामयाब रहे जो काफी आश्चर्यजनक बात है।

Share The News

Get latest news on Whatsapp or Telegram.