पूर्व राष्ट्रीय एथलीट खेलना छोडकर बन गए ठग, छह गिरफ्तार

ह‍रियाणा के फरीदाबाद में जियो कंपनी का टावर लगाने का झांसा देकर लोगों को ठगने वाले गिरोह के छह सदस्यों को गिरफ्तार किया है तो आश्‍चर्यजनक खुलासा हुआ। गिरफ्तार ठगों में दो राष्ट्रीय स्तर के एथलीट रह चुके हैं। वे लंबी कूद में अपनी प्रतिभा दिखा चुके हैं। मगर खेलना छोडकर ठगी के काम में लग गए हैं। इस गैंग को नाथुपुर गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया है। इन पर सेक्टर-3 के दरबारी लाल से करीब 30,800 रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है। साइबर थाने में 14 अक्टूबर को इनके खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया गया था।

साइबर थाना प्रभारी बसंत कुमार ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी जियो कंपनी का 4जी या 5जी टावर लगाने का विज्ञापन देते थे। इसमे वे एडवांस 90 लाख,  प्रतिमाह 80 हजार रुपये किराया,  टावर लगवाने वाले व्यक्ति के परिवार के 2 सदस्यों को नौकरी देने और एक मोटरसाइकिल देने का लालच देते थे। जब विज्ञापन देखकर अपने प्लाट या घरों की छत पर टावर लगवाने के इच्छुक इनके मोबाइल नंबर पर संपर्क करते थे तो वे टेलीकाम मंत्रालय से एनओसी,  जीएसटी,  स्वीकृति पत्र दिलाने आदि के नाम पर अपने खातों में पैसे डलवाते थे। इस गैंग में गुरुग्राम के ब्लाक एस नाथुपुर निवासी तरुण,  नवीन कुमार, दीपक, तुकमीरपुर दिल्ली निवासी आशीष,  हरिद्वार निवासी विनीत और अमित हैं। पुलिस ने इनसे 28 हजार रुपये,  लैपटाप,  नौ मोबाइल,  सिम और एटीएम कार्ड बरामद किए हैं।

थाना प्रभारी बसंत ने बताया कि विनीत और अमित लंबी कूद में राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके हैं। मगर जल्दी पैसा कमाने के चक्कर में वह इस धंधे में शामिल हो गए। दोनों का संपर्क पहले तरुण से था। तरुण ने ही नवीन,  दीपक और आशीष को 25-25 हजार रुपये वेतन पर रखा था। तरुण ने गुरुग्राम नाथुपुर में कॉल सेंटर खोला रखा था। नवीन, दीपक और आशीष के साथ यहीं किराए पर कमरा लेकर रहते थे। विनीत और अमित तरुण को सिमकार्ड और खाता नंबर उपलब्ध कराते थे।

Share The News
Read Also  होटल में धोनी की तरह रूम न मिला तो नाराज रैना IPL छोड़ लौटे आए भारत

Get latest news on Whatsapp or Telegram.