एक ही परिवार के 6 सदस्यों ने लिया देहदान का निर्माण

वसियत नवदृष्टि एवं छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर फाउंडेशन के सदस्यों को सौपी।

रायपुर। जीतेजी तो हर कोई पुण्य कमाना चाहता है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं दुनिया में जो मृत्यु के बाद भी किसी के काम आना चाहते हैं। इन्हीं में से एक है विश्वकर्मा परिवार जिन्होंने लोगों के सामने मिसाल पेश किए इस परिवार के एक नहीं बल्कि 6 सदस्यों ने देहदान करने का निश्चय किया है।

रायपुर अनुपम नगर में निवासी विश्वकर्मा परिवार के 85 वर्षीय रमा जी ने देहदान का निर्माण सबसे पहले लिया। इनसे प्रेरित होकर परिवार के अन्य सदस्यों ने भी उनका साथ दिया।

समाज सेवा के प्रति अपने दायित्व को पूरा करते हुए उनके सहित पूरे परिवार के 6 सदस्यों ने देहदान की घोषणा की। इसमें रमा विश्वकर्मा , पति रामसेवक 87 वर्षीय,पुत्र इंद्रकुमार61, विजय कुमार बहू अर्चना विश्कर्मा, सरोज विश्कर्मा शामिल हैं। परिवार के लोगों का कहना है मृत्यु के बाद अगर हमारा शरीर किसी के काम आ सके तो उसके लिए बहुत अच्छा होगा हम अपने साथ-साथ हमारे घर के आस-पास रहने वालों को भी देहदान के लिए प्रेरित करना चाहते हैं।

छत्तीसगढ़ ब्लड डोनर संस्था के सदस्य विवेक ने बताया कि पूरे परिवार के सदस्यों में समाज सेवा के प्रति जागरूक थे। इसी कड़ी में नेत्रदान और देहदान की घोषणा की। पूरे परिवार ने पहले देहदान और नेत्रदान से जुड़े जानकारी ली उसके बाद घोषणा की और अपनी वसीयत हमे सौपी। इस दौरान छत्तीसगढ़ ब्लड फाउंडेशन एवं नवदृष्टि के सदस्य विवेक साहू, प्रणय साहू, श्रद्धा साहू, प्रशांत साहू , गौरव दुबे सहित अन्य उपस्थित रहे।

Share The News
Read Also  महिला कृषक समूह ने कृषि को अपना बनी आत्मनिर्भर

Get latest news on Whatsapp or Telegram.